यहां रीना ने पिता को फोन कर बहन को बचाने की रो- रोकर लगाई गुहार,जानिए पूरा मामला

ख़बर शेयर करें

पापा आप जल्दी से आ जाओ… ये लोग आशा को जान से मार रहे हैं। उन्होंने उसे निर्वस्त्र कर दिया है और तेल छिड़ककर उसे जला रहे हैं। इन्होंने आशा का चाकू से बायां हाथ भी काट दिया है और गर्दन भी काटने की कोशिश कर रहे हैं। गत 30 जनवरी को ये फोन राजस्थान के जयपुर जिले के बेनाडरोड श्याम नगर विस्तार निवासी मिट्ठूलाल सांसी के पास उसकी बड़ी बेटी रीना का आया। एक ही घर में दो भाइयों को ब्याही रीना व आशा को उनके पति विकास उर्फ विक्की व अक्षय मार पीट कर कर रहे थे। इसी दौरान आशा की हत्या का प्रयास करते समय रीना ने पिता को फोन कर बहन को बचाने की रो- रोकर गुहार लगाई। हरकत में आए पिता ने भी तुरंत इसकी सूचना पुलिस को दे दी। इस पर पुलिस ने मौके पर पहुंचकर आशा को तो बचा लिया लेकिन, आरोपी विक्की व अक्षय मौके से फरार हो गए। जिन्हें पुलिस ने करीब साढ़े तीन महीने बाद अब गिरफ्तार कर लिया है।

सदर थानाधिकारी सुनील कुमार जांगिड़ ने बताया आरोपी अजीतगढ़ के मोहल्ला अंडेसरी निवासी 25 वर्षीय विकास व 22 वर्षीय अक्षय पुत्र छितरमल को मुखबिर की सूचना पर गिरफ्तार किया गया है। जो हत्या के प्रयास के आरोपी थे। थानाधिकारी ने बताया कि घटना के बाद से दोनों आरोपी फरार थे। इनमें से आशा का पति दिल्ली भाग गया। जहां रिक्शा चलाने लग गया था। इसी बीच उसके व भाई विकास के गांव में आने की सूचना पुलिस को मुखबिर से मिल गई। जिसके बाद दबिश देकर उन्हें गिरफ्तार कर लिया गया।

मामले में पिता मिट्ठूलाल सांसी ने दामाद विकास व अक्षय के अलावा बेटियों की सास संतरा देवी, बुआ सास कमला देवी व जेठानी किरण देवी पर भी मारपीट का आरोप लगाया था। आरोप था कि आशा को जान से मारने की कोशिश में ये तीनों भी उनकी सहयोगी थी। आरोप लगाया कि दोनों दामादों ने मिट्ठूलाल व सास के साथ भी गंभीर मारपीट की थी। इसी रिपोर्ट के आधार पर पुलिस ने मामले की जांच कर दोनों आरोपियों को गिरफ्तार किया है।

Ad
Ad
Ad
Ad

Leave a Reply

Your email address will not be published.