Good news : कैलाश पर्वत के दर्शन प्वाइंट तक रैम्प बनाने की तैयारी, सतपाल महाराज ने की केंद्रीय मंत्री से मुलाकात

ख़बर शेयर करें


कैबिनेट मंत्री सतपाल महाराज ने केन्द्रीय सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी से मुलाकात की. इस दौरान उन्होंने ओल्ड लिपुलेख दर्रे तक जाने वाले मोटर मार्ग के प्वाइंट जहां से कैलाश पर्वत के दर्शन होते हैं वहां तक रैम्प बनाने का अनुरोध किया।

Ad
Ad


कैलाश पर्वत के दर्शन प्वाइंट तक रैम्प बनाने की तैयारी
सतपाल महाराज ने केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी को जानकारी दी कि लिपुलेख दर्रे तक जाने वाले मोटर मार्ग के जिस प्वाइंट से कैलाश पर्वत के दर्शन होते हैं, उसके लगभग 200 मीटर पहले का रास्ता ऊबड़-खाबड़ और कठिन है, जिस कारण लोगों को यहां तक पहुंचने में दिक्कतों का सामना करना पड़ता है। इसलिए ओल्ड लिपुलेख दर्रे उस प्वाइंट तक जाने के लिए जहां से कैलाश पर्वत के दर्शन होते हैं वहां तक रैम्प बनाया जाये।

मार्ग पर शौचालय के निर्माण के लिए किया अनुरोध
सतपाल महाराज ने केन्द्रीय मंत्री को बताया कि पिथौरागढ़ में स्थित गुंजी से ओम पर्वत तथा गुंजी से आदि कैलाश के मार्ग धार्मिक और साहसिक यात्रा करने वाले पर्यटकों के लिए बहुत महत्वपूर्ण है। लेकिन वर्तमान में इन मार्गों पर शौचालयों की कमी है. जिस वजह से पर्यटकों को स्वच्छता नहीं मिल पाती है. मंत्री ने कहा शौचालयों की अनुपलब्धता से कई प्रकार की स्वास्थ्य सम्बन्धी समस्यायें हो जाती हैं. कैबिनेट मंत्री ने केंद्रीय मंत्री से कैलाश आवागमन के मार्गों पर सार्वजनिक शौचालयों के निर्माण कार्य करवाने का अनुरोध किया.

मार्ग पर माइलस्टोन न होने से पर्यटकों को होती है परेशानी
इसके साथ ही कैबिनेट मंत्री सतपाल महाराज ने केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी को अवगत कराया कि मार्ग पर माइलस्टोन भी नहीं हैं, जिस वजह से पर्यटकों को दिशा निर्देशन में कई प्रकार की कठिनाईयों का सामना करना पड़ता है। उन्होंने केंद्रीय मंत्री को बताया कि माइलस्टोन न होने की वजह से लोग रास्ते में भ्रमित हो जाते हैं. पर्यटकों को ये पता नहीं चल पाता कि उन्होंने कितना मार्ग तय कर लिया है। इसलिए कैलाश आवागमन के मार्गों पर माइलस्टोन के निर्माण के लिए अधिकारियों को निर्देशित किया जाए.