देहरादून ब्लांइड मर्डर केस का खुलासा, एक साथ मिली थी तीन लाशें, इस वजह से उतारा था मौत के घाट

ख़बर शेयर करें




पटेलनगर क्षेत्र में हुए तिहरे हत्याकांड का दून पुलिस खुलासा कर दिया है। एसएसपी देहरादून ने स्वयं कमान सभांलते हुए ब्लांइड मर्डर केस की गुत्थी को सुलझाया। मृतका तलाकशुदा थी। एसएसपी ने मामले का खुलासा करते हुए बताया कि महिला के प्रेमी ने घटना को अंजाम दिया था।

Ad
Ad


आरोपी की पहचान हसीन (36) पुत्र नसीम निवासी बिजनौर के रूप में हुई है। एसएसपी अजय सिंह ने हत्या का खुलासा करते हुए बताया हसीन बडोवाला में टिम्बर ली फर्नीचर फैक्ट्री में काम करता है और वह तलाकशुदा है। मृतका रेश्मा से पिछले दो सालों से उसका प्रेमप्रसंग चल रहा था।

शादी करने का दबाव बनाती थी महिला
हसीन ने पूछतछ में बताया कि रेशमा लगातार उस पर शादी करने और साथ रहने का दबाव बना रही थी। रेशमा समय-समय पर आरोपी पर खर्चो के लिये पैसो की मांग करती रहती थी। जिससे परेशान होकर आरोपी ने रेशमा से पीछा छुडाने का प्रयास किया। लेकिन वह लगातार उसे फोन और मैसेज के माध्यम से अपने साथ रखने की जिदद कर रही थी।

बच्चों को लेकर देहरादून पहुंच गई महिला
हसीन ने रेशमा को दून में कमरा ढूंढने और उसके बाद बुलाने की बात कहकर टाल दिया। आरोपी ने बताया कि 23 जून की शाम रेशमा अपनी बेटी आयत (15) और आयशा (8) के साथ देहरादून isbt आ गई। isbt पहुंचकर रेशमा ने हसीन को फोन कर अपने देहरादून आने की जानकारी दी। जिस पर आरोपी ने रेशमा से पीछा छुडाने के लिये उसे रास्ते से हटाने की योजना बनाई।

फैक्ट्री में उतारा मौत के घाट
आरोपी ने बताया कि वो महिला और उसके बच्चों को लेने अपनी बाइक से आईएसबीटी पहुंचा और रेशमा व उसके दोनो बच्चो को लेकर सीधे टीम्बर ली फैक्ट्री ले गया। फैक्ट्री में ही रात को मां और दोनों बेटियां सो गई। जिसके बाद आरोपी ने पहले रेश्मा का गला दबाकर उसकी हत्या की। उसके बाद दोनो बच्चीयो की मुंह और नाक दबाकर उन्हें मौत के घाट उतार दिया।

कूड़े के ढेर के नीचे दबाए मृतकों के शव
आरोपी ने बताया की उसने तीनों को मौत के घाट उतारने के बाद तीनों के शवों को फैक्ट्री के पीछे कूढे के ढेर के नीचे छुपा दिया। शवों को ठिकाने लगाने के बाद आरोपी ने मृतका का बैग भी कूढे के ढेर से कुछ दूरी पर फेंक दिया और मृतका का मोबाइल और उसके घर की चाबी अपने पास छुपा दी।