जहरीली शराब के कहर के बाद धामी का लापरवाह कर्मियों पर चाबुक 13 ससपेंड

ख़बर शेयर करें

हरिद्वार जिले में कच्ची शराब के सेवन से सात लोगों की मौत होने के मामले में थानाध्यक्ष पथरी, आबकारी इंस्पेक्टर लक्सर समेत 13 कर्मियों को निलंबित कर दिया गया है, बताया जा रहा है कि पंचायत चुनाव के किसी प्रत्याशी ने शराब वितरण कराई थी,

बताते चलें कि हरिद्वार जिले के पथरी थाना क्षेत्र के फूल गढ़ और शिवगढ़ गांव में कच्ची शराब के सेवन से 7 लोगों की मौत हो गई थी, इस मामले में त्वरित कार्रवाई करते हुए थाना अध्यक्ष सहित आबकारी इंस्पेक्टर और 13 कर्मियों को निलंबित कर दिया गया है,

हरिद्वार जिला प्रशासन ने प्रारंभिक तौर पर 4 लोगों की मौतों की पुष्टि की, वहीं मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने इस मामले में सख्त रवैया अपनाते हुए गहन जांच करने और दोषियों पर सख्त कार्रवाई के निर्देश जारी कर दिए हैं ,एसएसपी हरिद्वार ने थानाध्यक्ष रवींद्र कुमार ,कांस्टेबल राकेश नेगी ,संदीप, पंकज कुमार को सस्पेंड कर दिया है ,
वही आबकारी आयुक्त हरि चंद्र सेमवाल ने आबकारी निरीक्षक भरत प्रसाद ,उपनिरीक्षक किशन सिंह चौहान, प्रधान आबकारी सिपाही दिनेश सिंह रावत, शिवराज सिंह ,सिपाही श्रवण कुमार व प्रदीप दयाल के अलावा प्रधान आबकारी सिपाही डिंपल रानी, राजीव कुमार सैनी व अनिरुद्ध शर्मा को निलंबित कर दिया है,

वही एसपी रेखा यादव के नेतृत्व में एसआईटी टीम गठित की गई है, तीन पंचायत प्रत्याशियों को हिरासत में लेकर पूछताछ की जा रही है, कच्ची शराब के सेवन से गांव फूलगढ़ निवासी बिरम सिंह उम्र 55 ,राजू उम्र 45, अमरपाल उम्र 36, अरुण उम्र 28, तेजपाल उम्र 62, के अलावा गांव शिवगढ़ के मनोज उम्र 32 और इशमपाल उम्र 35 की मौत की सूचना मिली थी ,स्थानीय लोगों का आरोप है कि पंचायत चुनाव के चलते वोटरों को लुभाने के लिए प्रत्याशी गांव में रोजाना कच्ची शराब बांट रहे हैं, जहरीली शराब का सेवन करने से 2 दिन में 7 लोगों की मौत हो चुकी है ,उधर शनिवार सुबह पुलिस और प्रशासन टीम मौके पर पहुंचकर कार्यवाही पर जुट गई है,

रुड़की में वर्ष 2019 फरवरी में भी जहरीली शराब पीने से 48 मौतें हुई थी, इसके बाद तत्कालीन मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत की सरकार में एकल सदस्यीय आयोग बनाया था, आबकारी नीति में शामिल करने समेत 20 संस्तुतियों की बात की गई थी ,लेकिन 3 वर्ष बाद भी यह सिफारिशें फाइलों में धूल फांक रही हैं और अभी तक लागू नहीं की गई,

Ad
Ad
Ad

Leave a Reply

Your email address will not be published.