उत्तराखंड स्वास्थ्य सेवाएं अजब गजब-डॉक्टर ने चढ़ाया गत्ते का प्लास्टर

ख़बर शेयर करें

पौड़ी एसकेटी डॉटकॉम

उत्तराखंड में स्वास्थ्य व्यवस्था पटरी से उतरी हुई है ऐसा ही एक वाक्य पौड़ी जिले के रिखणीखाल ब्लॉक के सरकारी अस्पताल में नजर आया जब हाथ पैर फैक्चर होने के बाद दूरस्थ ग्रामीण क्षेत्र की एक बालिका अस्पताल में पहुंची तो डॉक्टरों ने उसे पेरिस ऑफ प्लास्टर करने के बजाए गत्ते का प्लास्टर कर दिया जिसके बाद यह फोटो पूरे क्षेत्र में वायरल हो होकर स्वास्थ्य विभाग की व्यवस्थाओं की पोल खुलती नजर आ रही है।

पर्वती क्षेत्र के दूरस्थ क्षेत्रों में लोगों को स्वास्थ्य सुविधाएं मिलना तो दूर छोटी मोटी बीमारी के लिए गोलियों भी नहीं मिल पा रही है वही छोटी सी दिक्कतों जिनमें फैक्चर आधी है उसकी तो कोई सुविधा यहां है ही नहीं लोगों को सरकारी अस्पतालों में स्थित कर्मचारी तुरंत देहरादून और हल्द्वानी तथा कोटद्वार के लिए रेफर कर देते हैं।

उत्तराखंड के पहाड़ी क्षेत्रों में सरकारी अस्पताल और स्वास्थ्य सुविधाएं अपनी बदहाली के आंसू रो रही है। दुर्गम क्षेत्रों के लोग चिकित्सा सुविधाएं ना मिलने के कारण परेशान हैं और आए दिन कई लोग अपनी un जान गवा रहे हैं और जान गवा चुके हैं क्योंकि पहाड़ों के सरकारी अस्पताल हायर सेंटर बनकर रह गए हैं।
आपको बता दें लेकिन इस बार उत्तराखंड के पौड़ी गढ़वाल जिले के रिखणीखाल सरकारी अस्पताल में एक गजब का कारनामा सामने आया है आपको बता दें कि डॉक्टरों ने फैक्चर होने पर बच्ची के हाथ में प्लास्टर की जगह गत्ते का प्लास्टर चढ़ा दिया। तस्वीर वायरल होने के बाद सरकार, प्रदेश की स्वास्थ्य सविधाओं समेत स्वास्थ्य मंत्री की जमकर किरकिरी हो रही है
ये तस्वीर देख कई लोगों की हंसी भी छूट रही है लेकिन यह तस्वीर बयां कर रही है कि उत्तराखंड के सरकारी अस्पतालों की और उत्तराखंड में स्वास्थ्य सुविधाओं के क्या हाल है। रिखणीखाल के सरकारी अस्पताल में डॉक्टर ने जो कारनामा किया है उससे उत्तराखंड की स्वास्थ्य सुविधाओं पर कई सारे सवालिया निशान खड़े हो रहे हैं।

Ad
Ad
Ad
Ad

Leave a Reply

Your email address will not be published.