विश्वास करें-जैविक खेती का कमाल 1पौधे से निकली 24 किलो अदरक

ख़बर शेयर करें

हल्द्वानी एसकेटी डॉट कॉम

आप कभी समझ सकते हैं की एक अदरक की पौध से 24 किलो अदरक का उत्पादन किया जा सकता है यह सवाल अगर आप से किया जाए या आधुनिक रसायनिक खेती के माध्यम से ऐसा संभव है तो आप कहेंगे कि यह संभव नहीं है ।लेकिन जैविक विधि से इस सवाल का जवाब गौलापार के प्रगतिशील किसान नरेंद्र सिंह मेहरा ने खोज निकाला है । पर आज के रसायनिक खादों के माध्यम से से अधिक पैदावार करने का प्रयास किया जा रहा है। जो कि शारीरिक रूप से काफी नुकसानदायक साबित हो रहा है ।रासायनिक खेती से निजात दिलाते हुए उत्पादन कई गुना करने के मामले में नरेंद्र सिंह इतिहास रचने जा रहे हैं ।

गौलापार निवासी प्रगतिशील किसान नरेंद्र मेहरा ने हल्दी की एक नई प्रजाति की खोज की है. हल्दी के एक पौधे से 24 किलो हल्दी का उत्पादन किया है. यही नहीं उत्पादित हल्दी पूरी तरह से जैविक है. ।

नरेंद्र मेहरा के मुताबिक देश में अभी तक एक पौधे से इतनी बड़ी मात्रा में हल्दी का उत्पादन कहीं नहीं हुआ है. उन्होंने पहली बार रिंग-पिट मेथड से एक हल्दी के पौधे से 24 किलो हल्दी का उत्पादन किया है, जो देश में पहली बार उन्होंने करके दिखाया है.।


माना जाता है कि हल्दी के एक पौधे से अधिकतम एक किलो तक हल्दी का उत्पादन होता है. लेकिन हल्द्वानी के गौलापार निवासी प्रगतिशील किसान नरेंद्र मेहरा ने एक पौधे से 24 किलो हल्दी का उत्पादन किया है. नरेंद्र मेहरा ने बताया कि उन्होंने 2 साल पहले एक विशेष प्रजाति के हल्दी के पौधे को रिंग पिट मेथड से अपने खेत में लगाया. ।

उनको उम्मीद नहीं थी कि एक पौधे से इतनी अधिक मात्रा में हल्दी का उत्पादन किया जा सकता है. उन्होंने बताया कि हल्दी के पौधे को 2 साल पूरे होने के बाद जब उसकी खुदाई करने की कोशिश की तो हल्दी के पौधे की जड़ काफी बड़ी दिखी. जिसके बाद उन्होंने तीन मजदूरों की सहायता लेते हुए सब्बल के माध्यम से हल्दी के कंद को जमीन से बाहर निकाला. हल्दी के कंद की तौल की गई तो उसका वजन 24 किलो निकला.।

पूरी तरह से जैविक है. उन्होंने कहा कि वह अब इस प्रजाति को और आगे विकसित करने जा रहे हैं. जिसके लिए वह कृषि वैज्ञानिकों से संपर्क में हैं और इस हल्दी की प्रजाति को पेटेंट कराएंगे. जिससे कि देश के किसान इस विधि के माध्यम से हल्दी उत्पादन अधिक कर अपनी आय में वृद्धि करसकेंगें।

रिंग पिट विधि से उगाई जाने वाली फसल में खेत की जुताई करने की आवश्यकता नहीं होती है. इसमें मशीन या कृषि औजार से कुछ दूरी पर गड्ढा तैयार कर उसमें पौधों को लगाया जाता है. यहां तक कि उन पौधों में कंपोस्ट खाद या गोबर की खाद के अलावा अन्य जैविक खाद डाली जाती हैं.

Ad
Ad
Ad
Ad

Leave a Reply

Your email address will not be published.