#अंकिता के हत्या आरोपियों की रिमांड से पहले इस लिए रखा है अलग अलग बैरकों

ख़बर शेयर करें

पुलिस की ऐसे नाकामी ही समझा जाए कि वह इन आरोपों की रिमांड नहीं ले पाई है जिसकी वजह से अंकिता भंडारी के हत्यारोपियों को पौड़ी जिला कारागार खांड्यूसैंण में अलग-अलग बैरकों में रखा गया है।

दूसरी ओर पुलिस ने इस मामले की जांच साइबर सेल प्रभारी इंस्पेक्टर राजेंद्र सिंह खोलिया को सौंप दी है।लक्ष्मणझूला पुलिस ने इस हत्याकांड में शामिल तीनों हत्यारोपियों को गिरफ्तार करते हुए बीती 23 सितंबर को कोटद्वार न्यायिक मजिस्ट्रेट प्रथम श्रेणी की कोर्ट में पेश किया था। जहां कोर्ट ने तीनों को न्यायिक अभिरक्षा में जेल भेज दिया था।

इस हत्याकांड में शामिल पुलकित आर्या, अंकित गुप्ता और सौरभ को पुलिस 23 सितंबर की रात को ही पौड़ी जिला कारागार खांड्यूसैंण ले गई थी।

जेल प्रशासन ने भी कारागार में इन तीनों ही आरोपियों को अलग-अलग बैरक में रख्ख है। हालांकि जेलर डीपी सिन्हा के अनुसार जो भी कैदी बाहर से जेल में दाखिल होते हैं, उन्हें करीब 10 दिन तक अलग-अलग बैरक में ही रखा जाता है। ऐसा कोविड के मद्देनजर भी किया जाता है। ताकि बाहर से आने वाले कोई कैदी कोविड संक्रमित हो तो ऐसे में अन्य कैदियों को कोविड न हो सके।

पौड़ी जिले की बेटी अंकिता मर्डर केस की तहकीकात अब साइबर सेल के इंजार्च इंस्पेक्टर राजेंद्र सिंह खोलिया को मिली है। पुलिस जल्द आरोपियों को रिमांड में लेने की तैयारी में जुटी है। रिस्पेशनिस्ट अंकिता भंडारी के मर्डर केस की विवेचना अब साइबर सेल के इंजार्च इंस्पेक्टर राजेंद्र खोलिया को सौंपी गई है।

इंस्पेक्टर खोलिया ने बताया कि पुलिस इस केस में और साक्ष्य जुटाने में लगी है।बीते रोज ही इस केस की तफ्तीश दी गई है। मामले में बारीकी से जांच की जाएगी। अंकिता की हत्या में शामिल तीनों आरोपियों को रिमांड में लिया जाएगा। इसके लिए पुलिस कोर्ट से आरोपियों को रिमांड पर लेने की डिमांड करेगी।

पुलिस रिजॉर्ट समेत घटनास्थल का फिर से बारीकी से निरीक्षण करेगी। बता दें अंकिता मर्डर केस से उत्तराखंड नहीं पूरे देश में आरोपियों को फांसी की सजा दिलाने के लिए लोगों ने हैश टैग शुरू कर दिया है।

अंकिता के हत्यारोपियों के खिलाफ लोगों काफी आक्रोश बना हुआ है। पूरे प्रदेश में धरना प्रदर्शन और आक्रोश रैलियां निकाली जा रही है। वहीं सरकार ने मामले की जांच अब एसआईटी को सौंपी है। लिहाजा डीआईजी पी रेणुका देवी के नेतृत्व में पुलिस को इस केस को मजबूती के अंजाम तक पहुंचाने की चुनौती है।

दूसरी ओर अंकिता मर्डर केस के मुख्य आरोपी पुलकित आर्य के वनंतरा रिजॉर्ट पर अब सन्नाटा पसर गया है। रविवार को पुलिस टीम निगरानी करती नजर आई। जिसमें एक सब इंस्पेक्टर, दो महिला कांस्टेबल सहित पांच लोग शामिल हैं। वहीं, मीडिया कर्मी भी बड़ी संख्या में कवरेज के लिए रिसॉर्ट पर पहुंचे।

बीती शनिवार को तोड़फोड़ और फैक्ट्री में आगजनी की घटना के बाद रविवार को लोग मौके पर दिखे।यहां स्थानीय युवकों ने हत्या के आरोपी पुलकित आर्य के किस्से भी बताए। युवकों ने नाम न छापने की शर्त पर बताया कि पुलकित आर्य छात्रसंघ चुनावों में अपना दबदबा दिखाने के लिए स्थानीय युवकों को डिग्री कॉलेज ले जाता थाए वह युवकों की खूब खातिरदारी भी करता था।

लॉकडाउन से पूर्व एक टीवी चैनल के चर्चित शो रोडिज की यहां पर शूटिंग हुई थी। इसके अलावा युवकों ने पुलकित आर्य के पुराने किस्से भी सुनाए। स्थानीय लोगों ने बताया कि रिजॉर्ट में करीब 14 रूम बनाए गए हैं। जहां पर मेहमानों को ठहराया जाता था।

Ad
Ad
Ad
Ad
Ad
Ad
Ad Ad

Leave a Reply

Your email address will not be published.