आपदा पीड़ितों की मदद को आगे आया यह हॉस्पिटल (देखें डॉ पाल ने क्या कहा वीडियो)

Ad
ख़बर शेयर करें

हल्द्वानी एसकेटी डॉटकॉम

उत्तराखंड के कुमाऊं क्षेत्र में विगत 18 अक्टूबर से आई आपदा के रोगियों को उपचार के लिए अब शहरों की ओर आना पड़ रहा है। इन लोगों की दिक्कतों को देखते हुए उत्तराखंड के सबसे बड़े हॉस्पिटलों में से एक बृजलाल हॉस्पिटल ने एक नया कदम उठाते हुए पर्वतीय यक्षेत्र से आने वाले लोगो के लिए ओपीडी निशुल्क कर दी है।

यानी कि ऐसे रोगियों को जो किसी भी बीमारी से ग्रस्त हैं वह अपना उपचार बृजलाल हॉस्पिटल में करा रहे हो तो उन्हें डॉक्टर को दी जाने वाली कंसलटेंसी फीस नहीं देनी पड़ेगी। हॉस्पिटल के एमडी डॉक्टर अजय पाल सिंह ने बताया कि आपदा के बाद खेतों में पानी भरा हुआ है घरों के पास मलवा जमा हुआ है तथा कई तरह की मवेशी भी हादसों के शिकार हुए हैं जिन से दुर्गंध आती है और कई तरह की बीमारियां भी फैलने की संभावना रहती है इसके अलावा कई लोग चोटिल हुए होते हैं उन्हें भी उपचार की जरूरत होती है ऐसे लोगों को राहत देने के लिए अस्पताल ने ओपीडी कंसलटेंसी फीस निशुल्क कर दी है ।

हॉस्पिटल की ओर से यह आपदा पीड़ितों के लिए एक छोटा सा प्रयास है ताकि ऐसे समय में उन्हें कुछ राहत मिल सके। डॉक्टर अजय पाल से जब यह पूछा गया की कई लोग चोटिल हुए होते हैं उन्हें बड़े उपचार की जरूरत होती है तो ऐसे में गरीब लोगों को कुछ और राहत दी जाएगी तो इस संबंध में उन्होंने कहा कि निश्चित रूप से वह हमेशा गरीब लोगों को डिस्काउंट देते हैं कोई भी गरीब व्यक्ति जिसके लिए उपचार कराना कठिन होता है उसके मामले में निश्चित रूप से सहानुभूति पूर्वक विचार किया जाएगा ।

मौसम विभाग द्वारा दिए गए एक अन्य अलर्ट जिसमें 24 के बाद दोबारा बारिश होने की संभावना के मद्देनजर सुझाव दिए जाने की बात पर डॉक्टर अजय पाल ने कहा कि लोगों को अलर्ट रहना चाहिए सरकार द्वारा जो प्रयास किए गए हैं उनसे निश्चित रूप से जनहनि कम होगी और सरकार इस समय अलर्ट मोड में है इसलिए निश्चित तौर पर आने वाली बारिश से निपटने में प्रशासन कामयाब रहेगा।

Ad
Ad
Ad
Ad
Ad
Ad
Ad
Ad
Ad
Ad
Ad
Ad

1 thought on “आपदा पीड़ितों की मदद को आगे आया यह हॉस्पिटल (देखें डॉ पाल ने क्या कहा वीडियो)

  1. जिन लोगों के घर मलुवा गिरने से खतरे मेरे उनके लिए क्या प्रवंधन है?? सर जी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *