होटल में बुलाती थी लड़की, फिर बदमाश साथी बनाते थे बंधक और शुरू होता था गंदा खेल, पुलिस ने किया अरेस्ट

ख़बर शेयर करें

होटल में बुलाती थी लड़की, फिर बदमाश साथी बनाते थे बंधक और शुरू होता था गंदा खेल, पुलिस ने किया अरेस्ट
प्रतिकात्मक तस्वीर

उत्तर प्रदेश के बिजनौर जिले के नजीबाबाद इलाके पुलिस ने लड़कियो के जाल मे फंसाकर पैसा वसूलने वाला गैंग का भंडाफोड़ किया है. मामले में 4 आरोपियो को गिरफ्तार किया है. गिरफ्तार किए गए इन चार लोगों की पहचान पंकज,दानवीर सुनील और दीपक के रूप में हुई है. आरोपी लड़की मनीषा मौके से फरार हो गई हैं. यह जानकारी पुलिस अधिकारी ने दी. पुलिस ने इनके पास से 16 हजार रुपये नकद, दो देशी पिस्टल, एक चाकु, चार जिंदा कारतूस, छह मोबाइल फोन, पुलिस की दो वर्दी (एक एसआई और एक कांस्टेबल)और एक कार बरामद की है. 

अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक (शहर) बिजनौर डॉ.प्रवीन रंजन ने बताया कि, यह गैंग लड़कियो के माध्यम से लोगों को जाल मे फंसाकर बाद मे उन्हें बन्धक बनकर पीड़ितो से पैसा वसूलने का काम करता था. नजीबाबाद पुलिस को इस संबंध मे शेरकोट थाना के गांव भनौटी निवासी पीड़ित यशवीर सिहं ने 17 सितम्बर को शिकायत दर्ज कराई थी.

एसपी ने कहा कि शिकायतकर्ता ने बताया कि 16 सितम्बर को एक लड़की ने फोन कर उत्तराखंड के रामनगर मे एक होटल मे मिलने के लिए बुलाया था. जहां बाद मे लड़की ने अपने चार साथियों से मिलकर हम दो लोगों का बन्धक बना लिया था. अपहरण करने के बाद बदमाशों ने उनकी पिटाई की। यही नहीं, उन्होंने व्यापारी पर पिस्तौल की ट्रेनिंग भी की. इसके अलावा, एटीएम से आरोपियों ने 20 हजार रुपए भी निकलवाए. इस के बाद बदमाशों ने व्यापारी को 10 लाख रकम लाने की डिमांड की और कहा कि अगर रकम लेकर नही आया तो नौकर को जान से मार देगे. इसके बाद पीड़ित ने तत्काल मामले की जानकारी बिजनौर की नजीबाबाद पुलिस को दी थी.

एसपी ने बताया कि, तत्काल सूचना पर नजीबाबाद पुलिस ने घेराबंदी कर खैरा ढाबा के पास चारों बदमाशों गिरफ्तार कर लिया. अपहृत मुकेश को सहकुशल बरामद कर लिया गया. जबकि लड़की फरार हो गई.

एसपी ने कहा कि आरोपियो के खिलाफ भारतीय दंड संहिता की धारा 364ए, 342, 389, 323, 506, 171, 34, 386 के तहत प्राथमिक दर्ज की गई है. फरार अभियुक्ता मनीषा की गिरफ्तारी के लिए टीम गठित की गई है। जल्द गिरफ्तार करने दावा किया है.

Ad
Ad
Ad

Leave a Reply

Your email address will not be published.