बिल्डर साहनी आत्महत्या मामला, धोखाधड़ी और जबरन वसूली की धारा बढ़ी, सुसाइड से पहले दिया था प्रार्थनापत्र

ख़बर शेयर करें



बिल्डर साहनी आत्महत्या मामले में बड़ा अपडेट सामने आया है। पुलिस ने सहारनपुर के गुप्ता बंधुओं में से एक अजय गुप्ता और उसके बहनोई अनिल गुप्ता के खिलाफ धोखाधड़ी और जबरन वसूली की धारा बढ़ा दी है। बता दें बिल्डर साहनी ने आत्महत्या से कुछ दिन पहले पुलिस को अपनी जान का खतरा बताते हुए प्रार्थनापत्र दिया था। जिसे पुलिस ने जांच में शामिल किया है।

Ad
Ad


बता दें 24 मई को देहरादून के नामी बिल्डर सतेंद्र सिंह साहनी ने सातवीं मंजिल से कूदकर आत्महत्या कर ली थी। साहनी के पास से मिले सुसाइड नोट में अजय गुप्ता और अनिल गुप्ता का नाम सामने आया था। जिसके बाद शुक्रवार को पुलिस ने दोनों को गिरफ्तार कर लिया। साहनी ने सुसाइड नोट में आरोप लगाए थे कि उन्होंने कांप्लेक्स के निर्माण के लिए अनिल गुप्ता से साझेदारी की थी। लेकिन इस बीच अजय गुप्ता ने दखलअंदाजी करते हुए उन पर पूरा प्रोजेक्ट अपने नाम कराने का दबाव बनाने लगा।

आरोपियों के खिलाफ बढ़ी धारा
बिल्डर साहनी के आत्महत्या के बाद सामने आया की सुसाइड से पहले 16 मई को उन्होंने पुलिस को शिकायती प्रार्थनापत्र दिया था। जिसमें उन्होंने अजय गुप्ता और अनिल गुप्ता पर धोखाधड़ी और जबरन वसूली करने के लिए डराने और धमकाने के आरोप लगाए थे। प्रार्थनापत्र सामने आने के बाद पुलिस ने दोनों आरोपियों पर धोखाधड़ी और जबरन वसूली की धारा बढ़ा दी है। पुलिस पूरे मामले में साहनी के परिजनों और कारोबार से जुड़े लोगों के बयान भी दर्ज कर रही है