यहां चोरों का दुस्साहस, गैस कटर से एटीएम काट कैश बाक्स व डीवीआर उठा ले गए बदमाश,लाखो की चपत

ख़बर शेयर करें

कुशीनगर जिले के तमकुहीराज कस्बे के हरिहरपुर में चोरों ने दुस्साहसिक घटना को अंजाम दिया है। गैस कटर से एटीएम का कैश बाक्स व डीवीआर (डिजिटल वीडियो रिकार्डर) काटकर उठा ले गए। इसमें 21.56 लाख रुपये होने की संभावना जताई जा रही है। मंगलवार को ही इसमें 28 लाख रुपये डाले गए थे। घटनास्थल का निरीक्षण करने के बाद डीआइजी व एसपी ने मातहतों को आवश्यक निर्देश दिए। घटना के पर्दाफाश के लिए पांच टीमें लगाई गई हैं। लापरवाही बरतने के आरोप में ड्यूटी पर तैनात दारोगा संतोष कुमार सिंह, हेड कांस्टेबल राजेश सिंह, कांस्टेबल मानवेन्द्र चंद यादव, अनवारुल हक व राजन चौहान को निलंबित कर दिया गया है।

यह है पूरा मामला
सुबह लोगों ने एटीएम बूथ को अस्त-व्यस्त हालत में देखकर घटना की जानकारी पुलिस को दी। एसएचओ अश्वनी कुमार राय व सीओ जितेन्द्र कालरा ने देखा कि चोर कैश बाक्स के साथ डीवीआर भी उठा ले गए हैं। डीवीआर में रुपये की निकासी का रिकार्ड रहता है। इसके बाद पूरे उपनगर में सनसनी फैल गई। एएसपी रीतेश सिंह व पुलिस कप्तान धवल जायसवाल ने घटनास्थल का निरीक्षण किया तो डाग स्क्वाड व फारेंसिक टीम भी बुला ली गई। सीसीटीवी फुटेज खंगाला गया तो कोई सुराग नहीं मिला। एसपी ने घटना के पर्दाफाश के लिए पांच टीमें गठित कीं। डीआइजी जे रवींद्र गौंड ने भी घटनास्थल के एक-एक पहलुओं का बारीकी से परखा और मातहतों संग चर्चा की।

जांच में सामने आई यह बड़ी बात
पुलिस की प्रारंभिक जांच में यह बात सामने आई है कि एटीएम के चेन्नई स्थित हेड आफिस को रात्रि में 1.43 पर ही एटीएम में छेड़छाड़ का पता चल गया था लेकिन वे पुलिस प्रशासन को खबर करने में चूक गए। डीआइजी ने बताया कि एटीएम की देखरेख करने वाली सीएमएस (कैश मैनेजमंट सर्विस) कंपनी द्वारा पैसा भी डाला जाता है। मंगलवार को कंपनी द्वारा 28 लाख रुपये एटीएम में डाले गए था। कंपनी के सहायक मैनेजर व एटीएम इंचार्ज कमल नारायण सिंह धन निकासी का हिसाब किताब कर रहे हैं। संभावना व्यक्त की जा रही है कि 21.56 लाख रुपये मौजूद थे, हालांकि सही आंकड़ा बैंक व सीएमएस कंपनी के आगणन के बाद ही पता चल सकेगा। एसएचओ ने बताया कि संदेह के आधार पर एक दर्जन संदिग्धों को पूछताछ के लिए हिरासत में लिया गया है।

Ad
Ad
Ad
Ad
Ad
Ad
Ad Ad

Leave a Reply

Your email address will not be published.