पहाड़ी सेना के प्रवीण ने गैरसैण के लिए जेल मे शुरू किया आमरण अनशन

Ad
ख़बर शेयर करें

हल्द्वानी एसकेटी डॉट कॉम

पहाड़ी आर्मी राजधानी गैरसैण चमोली लगातार चरणबद्ध तरीके से लोगों में जन जागरूकता चला रही है। पहाड़ी आर्मी के संस्थापक प्रवीण सिंह काशी इस आंदोलन के लिए विगत 14 सितंबर से चमोली के पुरसाडी जेल में बंद है। उनके द्वारा अपनी मांगों के लिए जेल मे ही आमरण अनशन शुरू कर दिया है। यह जानकरी पहाड़ी आर्मी के संस्थापक हरीश रावत ने दी।

उन्होंने बताया कि उन पर लगे मुकदमों को निरस्त कर उन्हें ससम्मान रिहा किया जाय।

इस संबंध में पहाड़ी आर्मी के सदस्य मुख्यमंत्री को संबोधित विज्ञापन एसडीम को शो करें मिस्टर हरीश रावत ने कहा कि जब तक गैरसैण राजधानी नहीं बनती और स्थानीय बेरोजगारों को रोजगार नहीं मिलता तब तक पहाड़ी आर्मी अपना यह आंदोलन निरंतर चलाती रहेगी । इस बीच पहाड़ीआर्मी सपना कुनबा लगातार बढ़ाती जा रही हैं। डिग्री कॉलेज में युवाओं द्वारा पहाड़ी आर्मी की संस्था ले गई जिससे युवाओं में यह बात गहरा गई है की बगैर राजधानी गैरसैंण बने उत्तराखंड और उत्तराखंड वासियों का विकास नहीं हो सकताहै। युवाओ को भी अब लगाने लगा है कि भू कानून एवं गैरसैण राजधानी के बगैर युवाओ को उनके घर पर रोजगार नही मिल सकता है। जिसके बगैर पलायन नही रूक सकता है

Ad
Ad
Ad
Ad
Ad
Ad
Ad
Ad
Ad
Ad
Ad
Ad

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *