गूगल पर कस्टमर केयर नंबर सर्च मार रहे लोग हो जाएं सावधान, तीन लोग गिरफ्तार

ख़बर शेयर करें



देहरादून : उत्तराखंड एसटीएफ और साइबर क्राईम के साथ सहसपुर पुलिस ने प्रदेश में संचालित संगठित साइबर अपराध पर शिकंजा कसा हुआ है। इसी कड़ी में उत्तराखंड एसटीएफ और सहसपुर पुलिस को बड़ी कामयाबी हासिल हुई है। बता दें कि संयुक्त कार्यवाही में पुलिस ने मुद्रा फाइनेंस कंपनी के अधिकारी बनकर लोन दिलाने के नाम पर ठगी करने वाले एक गिरोह के तीन सदस्यों को गिरफ्तार किया है। तीनों को देहरादून से ही गिरफ्तार किया गया है।


आपको बता दें कि वर्तमान में साइबर अपराधी आम जनता की गाढ़ी कमाई हड़पने के लिए अपराध के नये-नये तरीके अपनाकर धोखाधड़ी कर रहे है। ठगों द्वारा विभिन्न आँनलाइन सर्च इंजन पर बैंक-विभिन्न कम्पनियों के कस्टमर केयर नाम से फर्जी मोबाइल नम्बर प्रसारित कर आम जनता से ई-मेल और फोन के जरिए सम्पर्क कर ऑनलाइन लॉन, सामान बेचने, शिकायतों के निस्तारण आदि के नाम पर करोडों रुपये की धोखाधडी की जा रही है।


ऐसे ही एक मामले की शिकायत साइबर क्राईम पुलिस स्टेशन को मिली। इसमे राम प्रसाद पुत्र गिरधारी निवासी ग्राम धोराहरा, थाना अतरोलिया, जिला आजमगढ़ हाल निवासी रामपुर कला चोरी बस्ती, थाना सहसपुर के साथ इसी प्रकार की घटना घटित हुई जिसमें वादी को ऑनलाइन मुद्रा योजना द्वारा लोन देने के लिए विशाल कश्यप आदि द्वारा मोबाईल से वादी राम प्रसाद से सम्पर्क कर लोन उपलब्ध कराने का लालच दिया गया। साथ ही प्रोसेसिंग फीस, ईएमआई शुल्क और अन्य विभिन्न शुल्क के नाम पर भिन्न भिन्न बैंक खातों में धनराशि जमा कराई गई और ठगी को अंजाम दिया गया। शिकायत मिलते ही सहसपुर पुलिस ने मुकदमा दर्ज किया और एसटीएफ के साथ मिलकर इस कार्रवाई को अंजाम दिया। मामले की जांच सहसपुर थाने में तैनात उप नि. राकेश सिह पुण्डीर के सुपुर्द की गयी।


स्पेशल टास्क फोर्स और साईबर क्राइम पुलिस टीम ने मात्र 6 घण्टे में आरोपी विशाल कश्यम पुत्र बाबूराम निवासी संगम विहार कॉलोनी गांधी ग्राम थाना बसन्त विहार, देहरादून 2- जितेन्द्र वर्मा पुत्र चुन्नीलाल निवासी उपरोक्त 3- राजीव शर्मा पुत्र सुभाष शर्मा निवासी जीएमएस रोड, काली मन्दिर एन्क्लेव, थाना बसन्त विहार, देहरादून को गिरफ्तार किया।


आरोपियों ने पूछताछ में बताया कि उनका गिरोह फर्जी आईडी पर सिम कार्ड लेकर पूरे भारतवर्ष में जरुरतमंदों को कम ब्याज पर लोन दिलाने का लालच देकर विभिन्न शुल्क, प्रोसेसिंग फीस आदि के एवज में धनराशि विभिन्न खातों में मंगाकर धोखाधड़ी करते हैं।
आरोपियों ने पूछताछ में बताया कि वो आम जनता से ठगी करने के लिए विभिन्न कम्पनियों-बैंक आदि के फर्जी कस्टमर केयर नम्बर को गूगल प्लेटफार्म पर डालते थे और आम जनता को झांसे में लेकर विभिन्न कम्पनियों-बैंक के कस्टमर केयर अधिकारी-कर्मचारी बनकर समस्या के समाधान के लिए लिंक भेजकर-एप डाउनलोड कराकर बैंक-एटीएम डिटेल प्राप्त करते थे और ठगी करते हैं। इनके द्वारा विभिन्न प्रकार की प्रोसेसिंग शुल्क, बैंक शुल्क आदि का झांसा देकर जरुरतमंदो से पैसे लिये जाते थे ।एक व्यक्ति जरूरतमंद लोगों को फोन कर बात करता था। दूसरा शख्स व्हाट्सएप मैसेज भेजता था। तीसरे व्यक्ति ने खाते में पैसे लेने के लिए 500 रुपये कमीशन के साथ अपने खाते में पैसा जमा किया।

एसटीएफ एसएसपी ने जनता से अपील की है कि कृपया किसी सर्च इंजन पर किसी कम्पनी-बैंक का कस्टमर केयर नम्बर न ढूंढें। कस्टमर केयर का नम्बर सम्बन्धित कम्पनी, बैंक की अधिकारिक वैबसाइट से ही देखें और मदद मांगें। किसी अंजान व्यक्ति के बहकावे में आकर Any Desk, Quick Support, Alpmix आदि रिमोट एक्सेस एप डाउनलोड न करें। कस्टमर केयर से बताकर फोन करने वाले व्यक्ति की बातो में न आये और न ही उसे अपने वॉलेट/बैक सम्बन्धी को जानकारी साझा करें। कोई भी शक होने पर तत्काल निकटतम पुलिस स्टेशन या साइबर क्राईम पुलिस स्टेशन देहरादून को सम्पर्क करें व कोई भी आर्थिक साईबर अपराध होने पर तत्काल साईबर हैल्पलाईन नम्बर 155260 पर सम्पर्क करें.


गिरफ्तार अभियुक्त-
1-विशाल कश्यम पुत्र बाबूराम निवासी संगम विहार कॉलोनी गांधी ग्राम थाना बसन्त विहार देहरादून
2- जितेन्द्र वर्मा पुत्र चुन्नीलाल निवासी उपरोक्त
3- राजीव शर्मा पुत्र सुभाष शर्मा निवासी जी0एम0 एस रोड काली मन्दिर एन्क्लेव थाना बसन्त विहार देहरादून


पुलिस टीम-
1- उ0नि0 राजीव सेमवाल
2- हे0कानि0प्रो0 सुरेश कुमार
3- कानि श्रवण कुमार
4- सब इंस्पेक्टर राकेश पुंडीर व सहसपुर थाने की टीम

Ad
Ad
Ad
Ad

Leave a Reply

Your email address will not be published.