देश के पहले cds के सम्मान में ऑस्ट्रेलिया ने उठाया ये कदम

ख़बर शेयर करें

देश के पहले चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ शहीद जनरल बिपिन रावत के सम्मान में ऑस्ट्रेलिया ने बड़ा ऐलान किया है। 21 मार्च सोमवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और ऑस्ट्रेलिया के प्रधानमंत्री स्कॉट मॉरिसन के बीच वर्चुअली शिखर वार्ता हुई। विदेश मंत्रालय ने भारत-ऑस्ट्रेलिया शिखर सम्मेलन के दौरान हस्ताक्षरित दस्तावेजों की सूची की घोषणा की। ऑस्ट्रेलिया सरकार ने जनरल रावत इंडिया-ऑस्ट्रेलिया यंग डिफेंस ऑफिसर्स एक्सचेंज प्रोग्राम की स्थापना की घोषणा की है।


दोनों देशों ने आपसी रक्षा सहयोग बढ़ाने के लिए युवा सैन्य अधिकारियों के आदान-प्रदान कार्यक्रम की शुरुआत की घोषणा हुई। ऑस्ट्रेलिया ने कहा कि इसे भारत के पहले चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ (CDS) जनरल बिपिन रावत के नाम पर शुरू किया जाएगा। जनरल बिपिन रावत की पिछले साल दिसंबर में एक हेलीकॉप्टर दुर्घटना में मौत हो गई थी। हेलीकॉप्टर दुर्घटना में जनरल रावत की पत्नी मधुलिका रावत और रक्षा बल के 12 अन्य जवानों की भी मौत हो गई थी।


चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ के रूप में जनरल रावत ने अपने कार्यकाल के दौरान भारतीय सशस्त्र बलों के पुनर्गठन और आधुनिकीकरण पर खूब जोर दिया। उन्होंने प्रशिक्षण में संयुक्त कौशल की दिशा में सुधारों को आगे बढ़ाया और कई संयुक्त प्रशिक्षण संस्थानों को कार्यात्मक बनाया।


जनरल रावत को जनवरी 2020 में देश का पहली सीडीएस नियुक्त किया गया था। उससे पहले 17 दिसंबर 2016 को भारत सरकार ने उन्हें 27वें थल सेना प्रमुख के रूप में नियुक्त किया था। सैम मानेकशॉ और दलबीर सिंह सुहाग के बाद वह गोरखा ब्रिगेड के तीसरे अधिकारी थे जो सेनाध्यक्ष बने।

Ad
Ad
Ad
Ad

Leave a Reply

Your email address will not be published.