आप ने आखिर कांग्रेस कालाढूंगी के किस नेता पर गड़ा रखी है नजर, क्या इसीलिये रोकी है टिकट की घोषणा!

ख़बर शेयर करें

कालाढूंगी एसकेटी डॉट कॉम

कांग्रेस पार्टी ने अभी तक सिर्फ 53 विधानसभा सीटों पर ही अपने प्रत्याशियों की घोषणा कर दी है। 17 ऐसी विधानसभा सीटें हैं जिन पर पार्टी में उफाफोह की स्थिति बनी हुई है। इन सीटों में कालाढूंगी विधानसभा सीट प्रमुख रूप से शामिल है। हालाकी रामनगर सल्ट और लाल कुआं सीट भी चर्चाओं में बनी हुई है।आम आदमी पार्टी जो राज्य में तीसरी ताकत बनने के लिए पूरा जोर लगाए हुए हैं

उसने लाल कुआं रामनगर और सल्ट विधानसभा सीट पर तो अपने प्रत्याशी घोषित कर दी हैं लेकिन कालाढूंगी विधानसभा सीट पर उसने अभी भी अपने पत्ते नहीं खोले हैं। पार्टी की ओर से कई दावेदार इस सीट पर दावेदारी कर चुके हैं जिनमें मुख्य रुप से संतोष कबडवाल और त्रिलोचन जोशी शामिल हैं।इसके बावजूद जब आचार संहिता लग चुकी है और नामांकन की तिथि भी अब समाप्ति की ओर जाने लगी है पार्टी ने इस सीट पर उम्मीदवार होते हुए भी अभी इसकी घोषणा नहीं की है। राजनीतिक जानकारों का मानना है कि कांग्रेस की ओर से जब तक इस सीट पर प्रत्याशी की घोषणा नहीं होती है तब तक आम आदमी पार्टी भी अपने पत्ते नहीं खुलेगी। कालाढूंगी के पूरे राजनीतिक क्षेत्र में यह बात चर्चा का विषय बनी हुई है कि आखिर आम आदमी पार्टी ने कांग्रेस के प्रत्याशी की घोषणा तक ही इस सीट को क्यों रोके रखा है।

जानकार यह भी बताते हैं कि कांग्रेस पार्टी का टिकट फंसा हुआ है और ऐसा भी हो सकता है कि अगर मन मुताबिक रूप से टिकट नहीं मिला तो कांग्रेस का कोई कद्दावर नेता आम आदमी पार्टी के टिकट से मैदान में उतर सकता है। चर्चाएं यहां तक भी हैं कि कहीं ना कहीं कांग्रेस के किसी कद्दावर नेता पर आम आदमी पार्टी ने अपनी नजरें गड़ाए हुई है आम आदमी पार्टी यह समझती है कि अगर इस कद्दावर नेता को टिकट नहीं मिला तो निश्चित रूप से उनके चुनाव लड़ने की मंशा को भुनाया जा सकता है।

बड़ी महत्वाकांक्षा वाले इस नेता पर आम आदमी पार्टी की नजर पहले से ही टिकी हुई है लेकिन पार्टी से टिकट होने की आस में इस नेता के समर्थकों का भी बांध टूटने लगा है। नेता जी की भी चाहत है कि वह अपने समर्थकों को अपने साथ जुटाए रखने के लिए अंतिम समय में फैसला लेंगे ।पर चर्चा यहां भी है कि पार्टी इस बार उन्हें जरूर टिकट देगी और इसके लिए उन्होंने प्रदेश नेतृत्व से लेकर राष्ट्रीय नेतृत्व और प्रभारी तक भी जबरदस्त फील्डिंग लगाई है।

Ad
Ad
Ad
Ad

Leave a Reply

Your email address will not be published.