उत्तराखंड भूकंप अलर्ट’ एप के सारे दावे फेल, एक बार भी जारी नहीं की चेतावनी

ख़बर शेयर करें

उत्तराखंड में लगातार भूकंप आ रहे है, हाल ही में एक सप्ताह में तीन बार भूकंप आने से लोगों में दहशत का माहौल है। प्रदेश में पिछले साल ‘उत्तराखंड भूकंप अलर्ट’ एप लांच किया था। ये दावा किया गया था कि भूकंप के अलर्ट की चेतावनी देगा लेकिन ऐसा अब तक नहीं हुआ है और इस एप और सरकार के सारे दावे हवाहवाई हो गए।

उत्तराखंड में एक सप्ताह के दौरान तीन बार भूकंप आ गए हैं, लेकिन उत्तराखंड भूकंप अलर्ट एप ने एक बार भी इसकी चेतावनी जारी नहीं की है।

बता दें कि आपदा प्रबंधन विभाग और आईआईटी रुड़की द्वारा तैयार किए गए इस एप के लॉन्चिंग के दौरान दावा किया गया था कि एप के माध्यम से भूकंप के आने से पहले ही चेतावनी मिल जाएगी, लेकिन अब तक ऐसा नहीं हुआ है।

गौरतलब है कि मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने 4 अगस्त 2021 को देहरादून में मोबाइल एप्लीकेशन ‘उत्तराखंड भूकंप अलर्ट’ एप लांच किया था।

लॉन्चिंग के दौरान कहा गया था कि एप के माध्यम से भूकंप के आने से पहले की चेतावनी जारी की जा सकती है लेकिन अब तक यह दावा साबित नहीं हो पाया। साथ ही ऐसा भी गया था कि ऐसा एप बनाने वाला उत्तराखंड पहला राज्य है और जिन लोगों के पास एंड्रॉइड फोन नहीं होगा उनको भूकंप से पहले की चेतावनी नहीं मिल सकेगी।

शनिवार को पहले उत्तरकाशी इलाके में भूकंप आया, इसकी तीव्रता 3.1 मापी गई, इसके बाद शनिवार की रात ही 7.57 बजे 5.4 तीव्रता का भूकंप आया। इससे पूर्व आठ नवंबर की रात करीब दो बजे भूकंप के तेज झटके लगे थे। इसका केंद्र नेपाल में था और 6.3 तीव्रता नापी गई थी। लेकिन इनमें से किसी भी भूकंप का एप ने अलर्ट जारी नहीं किया। गौरतलब है कि उत्तराखंड भूकंप के लिहाज से सिस्मिक जोन फोर में आता है।

वैज्ञानिकों की मानें तो पिछले 10 सालों में उत्तराखंड में लगभग 700 भूकंप आ चुके हैं।

वहीं आपदा प्रबंधन डॉ. रंजीत सिन्हा के अनुसार शनिवार रात आए भूकंप का केंद्र नेपाल में था। इसकी तीव्रता 5.4 बताई जा रही है। उत्तराखंड में पहुंचते-पहुंचते इसकी तीव्रता कम हो गई। इसलिए भूकंप अलर्ट एप ने कोई खतरे का संकेत जारी नहीं किया। यह एप पांच मैग्नीट्यूड से अधिक तीव्रता वाले भूकंप का ही अलर्ट जारी करता है। एप को और अधिक अपडेट किए जाने का कार्य भी किया जा रहा है।

Ad
Ad

Leave a Reply

Your email address will not be published.