एक्सपर्ट्स की माने तो जिलाध्यक्ष बिष्ट के घर रहस्यमय धमाके की यह थी वजह

ख़बर शेयर करें

हल्द्वानी एसकेटी डॉट कॉम

भाजपा जिला अध्यक्ष प्रदीप बिष्ट के घर हुए रहस्यमई धमाके से पूरे जिले में हलचल मची हुई है वहीं अब जनता की नजर इस धमाके की वजह तलाश में पर लगी है मुख्य यह माना जा रहा है की रात्रि 11:00 बजे घर पहुंचने के बाद जिलाध्यक्ष प्रदीप बिष्ट ने किचन में अपने लिए पानी गर्म किया उसके बाद संभवत वह वह रेगुलेटर बंद करना भूल गए जिसके बाद गैस का रिसाव होता रहा और एलपीजी गैस में प्रोपेन और ब्यूटेन होने की वजह से यहऑक्सीजन धमाका कर गई जिसकी वजह से जहां एक भारी प्रसाद के रूप में किचन से जिधर हो गई उसने वही विस्फोट किया।

फॉरेंसिक एक्सपर्ट तथा अपराध न्याय विज्ञान विभाग के ज्वाइंट डायरेक्ट डॉक्टर दयाल शरण का का कहना है उन्होंने पूरे घर का बारीकी से मुआयना किया वहां पर किसी तरह के आईडी बम का जैसा कि लोगों ने संदेह व्यक्त किया का कोई इस्तेमाल नहीं हुआ और ना ही फ्रिज और एसी के कंप्रेसर से कोई किसी तरह का लीकेज हुआ जिससे कि धमाका हो सके इसके अलावा सेफ्टी टैंक में भी ऐसी धमाके होते हैं लेकिन वहां सीवरेज होने से यह संभावना भी खत्म हो गई ।

उन्होंने कहा कि जिला अध्यक्ष पानी गर्म करने के बाद संभवत है सिलेंडर का रेगुलेटर बंद करना भूल गए जिससे गैस निकलती रहे और ज्यादा मात्रा में निकलने से वह दिन के संपर्क में आई तो उसे जो भी रास्ता मिला उद्योग को निकलते हुए उसने ब्लास्ट किया और जिस से मोटे दरवाजे तथा जो भी उसके संपर्क में आया उसे उसने फाड़ कर रख दिया किचन में चावल के के पट्टे का फटना भी यह साबित करता है कि किचन से ही इस धमाके की शुरुआत हुई और वह बाहर को निकलती हुई आई उस उसे जो भी अवरोध मिला उसे उसने तोड़ कर रख दिया किचन का दरवाजा किचन में लवली में गिरना और उसके बाद के दरवाजे कमरों की ओर जरूर यह साबित करता है कि यह प्रेशर किचन से बनकर बाहर तो निकला।

वही प्रदीप बिष्ट ने भी यह स्वीकारा कि उन्होंने रात को पानी गर्म किया था उसके बाद वह सोए थे कि 10 मिनट के बाद या धमाका हो गया उन्होंने यह भी बताया जब वह किचन की ओर गए उनके भतीजे ने बताया कि वहां से आवाज आ रही है तो उन्हें समझदारी दिखाते हुए मोबाइल से उजाला किया और उसके रेगुलेटर को बंद कर दिया।

इंजन के साथ मिलकर

क्या हाल है तो

Ad
Ad
Ad

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *