उत्तराखंड घूमने आए चार यूपी के लोगों को फर्जी rt-pcr रिपोर्ट के साथ पुलिस ने किया गिरफ्तार, एक के पास निकली 10 फर्जी rt-pcr

ख़बर शेयर करें

कोरोनावायरस की वजह से सरकार के द्वारा rt-pcr रिपोर्ट को अपने साथ लाना अनिवार्य कर दिया गया है लेकिन इसके बावजूद भी लोग इसमें फर्जीवाड़ा का काम करते जा रहे हैं और एक ऐसा ही मामला राजधानी देहरादून के अशारोड़ी चेक पोस्‍ट का सामने आया है यहां पर पुलिस ने मसूरी घूमने आ रहे गाज़ियाबाद के एक व्यक्ति के पास से 10 फर्जी आरटीपीसीआर पकड़ीं। जबकि, तीन अन्य पर्यटकों के पास भी फर्जी रिपोर्ट मिली। जिस पर पुलिस ने चारों के खिलाफ धोखाधड़ी का मुकदमा दर्ज कर उन्हें गिरफ्तार कर लिया है।

सरकार ने उत्तराखंड में आने के लिए बाहरी राज्यों के पर्यटकों को 72 घंटे के भीतर की आरटीपीसीआर निगेटिव रिपोर्ट लाना जरूरी कर दिया है। यही सख्ती फर्जीबाड़े के लिए लोगो की बड़ी वजह बनी। मसूरी और आसपास के पर्यटक स्थलों में छुट्टी का लुत्फ लेने के चक्कर में ऐसे ही चार पर्यटक हवालात पहुंच गए। बुधवार शाम आशारोड़ी चेक पोस्ट पर पुलिस को एक कार सवार के पास मिली रिपोर्ट सामान्य नहीं लगी।

थानाध्यक्ष धर्मेंद्र रौतेला ने बताया कि बारीकी से जांच की गई तो पता चला कि व्यक्ति के पास कोरोना जांच की 10 फर्जी रिपोर्ट हैं। उसके साथ परिवार के अन्य लोग भी थे। इसके पीछे आ रही एक और कार में तीन और लोग सवार थे। इनकी रिपोर्ट भी फर्जी मिली। पुलिस ने सभी को गिरफ्तार कर लिया गया है। इनमें तीन पर्यटक गाज़ियाबाद निवासी हैं और एक बिहार का रहने वाला है। ये सभी मसूरी घूमने आ रहे थे। इनके खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया है।

पुलिस ने बताया कि गिरफ्तार पर्यटकों में तरुण मित्तल निवासी 167 सेक्टर 6 चिरंजीव विहार गाजियाबाद, अमित गुप्ता निवासी केएम कवि नगर गाजियाबाद, अमित कौशिक निवासी 126 एफ ब्लाक नेहरूनगर गाजियाबाद औऱ सुजीत कामत निवासी झिडकी जिला मधुबनी बिहार शामिल हैं। आज उन्हें अदालत में पेश किया जाएगा।

Ad
Ad
Ad

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *