पूर्व मंडी अध्यक्ष एवं विधा यक के अपने अपने के चक्कर मे पिस गए किसान, क्रेटो के लिए आये 23 लाख गए वापस

ख़बर शेयर करें

हल्द्वानी एसकेटी डॉट कॉम

नैनीताल जिले के भीमताल विधानसभा क्षेत्र अंतर्गत 15000 किसानों को अब अपनी फल सब्जी लाने के लिए अब क्रेड उपलब्ध नहीं हो पाएगी इसकी वजह है इनकरेड ओं के लिए खनिज न्यास से आई पहली किस्त की धनराशि ₹23लाख की धनराशि वापस हो गई है लिए

किसान अब इन क्रेटो से वंचित रहेंगे l उन्हें अपनी फसल अपने ही संसाधनों के माध्यम से मंडी तक पहुंचाने होगी इसके लिए उन्हें लकड़ी अथवा गत्ते कि क्रेट खरीदनी पड़ेगी जिसके लिए उन्हें अपनी जेब से पैसा लगाना होगालिए

मंडी समिति के पूर्व अध्यक्ष मनोज साह ने पर्वती क्षेत्र के काश्तकारों के लिए प्लास्टिक की क्रेट देने के लिए वायदा ₹47लाख का बजट खनिज न्यास से जुटाया थाl इस धनराशि से 30,000 प्लास्टिक की क्रेट किसानों को बांटी जानी थी लिए

हल्द्वानी मंडी समिति को जिला खनिज न्यास से पहली किस्त के रूप में 1500 क्रेट के लिए पहली के रूप में ₹23लाख की धनराशि मंडी को मिल गई मंडी को इसके लिए ईटेंडरिंग अथवा पोर्टल के माध्यम से खरीदारी करने की मंडी का जेम में रजिस्ट्रेशन नहीं होने की वजह से यह खरीदारी नहीं हो पाई l इसके बाद पूर्व मंडी समिति के अध्यक्ष का कार्यकाल पूरा हो गया और उन्होंने मंडी समिति अध्यक्ष पद का कार्यकाल छोड़ दिया

इसके बाद हुआ बड़ा खेल मंडी समिति अध्यक्ष जी क्षेत्र में इन क्रेटो को किसानों को बटवाना चाह रहे थे लेकिन विधायक उनसे सहमत नहीं थे और वह इन क्रेटों को दूसरे क्षेत्र में बटवाना चाह रहे थे l इसी खींचतान में टेंडर नहीं हो पाया और आचार संहिता लग गई इसके बाद प्रशासक की नियुक्ति हुई लेकिन प्रशासक भी कोई निर्णय नहीं ले पाए जिससे प्रशासन ने यह धनराशि वापस मंगा ली l मंडी समिति ने अपरिहार्य कारणों का हवाला देते हुए 20 फरवरी को यह धनराशि वापस कर दी लिए

भाजपा नेताओं के इस तरह के बीच काम से 30,000 किसानों तक नहीं पहुंच पाई निर्दलीय पार्टी में आए विधायक दूसरी जगह बटवा ना चाहते थे लेकिन सत्ताधारी होने के बावजूद वह इनका इस्तेमाल किसानों के हक में नहीं करवा पाए क्षेत्र में बढ़ जाते तो किसानों को ही फायदा होता दोनों क्षेत्रों में बराबर बांट दिए जाते तो भी किसानों का लाभ होता मेरे अपने के चक्कर में किसान तो नेताओं के पाटों के बीच पिस गए l

Ad
Ad
Ad

Leave a Reply

Your email address will not be published.