Sunita Williams: अंतिरक्ष पहुंचकर ऐसा करने वाली पहली महिला बनी सुनीता विलियम्स, नृत्य कर झूम उठीं

ख़बर शेयर करें



भारतीय मूल की सुनीता विलियम्स और उनके साथी बुच विल्मोर सुरक्षित अंतरिक्ष में पहुंच गए हैं। इस दौरान सुनीता विलियम्स काफी खुश दिखाई दे रही हैं। होइंग के स्टारलाइनर अंतरिक्ष यान पर सवार होकर अंतरराष्ट्रीय अंतरिक्ष स्टेशन के रास्ते में अंतरिक्ष यात्री सुनीता विलियम्स और उनके सहयोगी बुच विल्मोर ने उड़ान क्षमता का परीक्षण किया। दोनों ने अंतरिक्ष यान के सदस्यों के तौर पर अपने हाथों में इसका नियंत्रण लेकर इतिहास रच दिया और ऐसा करने वाली सुनीता विलियम्स पहली महिला बन गई है।

Ad
Ad

पुरानी आईएसएस परंपरा निभाई

बता दें कि Sunita Williams और विल्मोर का स्वागत घंटी बजाकर किया गया, जो एक पुरानी आईएसएस परंपरा है। वहीं, अपने नृत्य पर सुनीता ने कहा कि चीजों को आगे बढ़ाने का यही तरीका है। बता दें कि विलियम्स और विल्मोर पहले स्टारलाइनर उड़ान वाले पहले चालक दल है। उन्होनें फ्लोरिडा के केप कैनावेरल स्पेस फोर्स स्टेशन में लॉन्च होने के लगभग 26 घंटे बाद बोइंग अंतरिक्ष यान को सफलतापूर्वक आईएसएस में उतारा।

एक सप्ताह अंतरिक्ष में समय बिताएंगे

हीलियम लीक जैसी तकनीकी गड़बड़ियों के कारण अंतरिक्ष में उतरने में करीब एक घंटे की देरी हई। अब अंतरिक्ष में विलियम्स और विल्मोर लगभग एक सप्ताह बिताएंगे और विभिन्न परीक्षणों में सहायता करेंगे और वैज्ञानिक प्रयोग करेंगे।

पहली महिला बनी Sunita Williams
बता दें कि इस तरह के मिशन में जाने वाली सुनीता विलियम्स दुनिया की पहली महिला अंतरिक्ष यात्री बन गई हैं। मई 1987 में सुनीता ने अमेरिका की नौसेना अकादमी से प्रशिक्षण लिया था। इसके बाद वे अमेरिका की नौसेना से जुड़ी थी। 1998 में उन्हें नासा द्वारा अंतरिक्ष यात्री के रुप में चुना गया था। इससे पहले साल 2006 और साल 2012 में सुनीता विलियम्स अंतरिक्ष अभियानों का हिस्सा बन चुकी हैं