दरोगा भर्ती घोटाले में बड़ी कार्यवाही हाकम समेत 12लोगों पर मुकदमा दर्ज#subinspectorrecuitmensacam

ख़बर शेयर करें

हल्द्वानी एसकेटी डॉटकॉम

गाने सरकार ने आज बहुत बड़ा एक्शन लेते हुए विजिलेंस को दरोगा भर्ती घोटाले में जांच के बाद 12 नकल माफिया लोगों के खिलाफ कार्रवाई कर मुकदमा दर्ज करने के आदेश दिया जिसके बाद एसपी विजिलेंस पहलाद सिंह मीणा नए बिजनेस के नैनीताल सेक्टर स्थित हल्द्वानी कार्यालय में इन लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया है.

सब इंस्पेक्टर Recruitment scam उत्तराखंड में हुई दारोगा भर्ती मामले में पुलिस ने जांच रिपोर्ट के अाधार पर 12 लोगों पर मुकदमा दर्ज कर लिया है। इसमें हाकम सिंह चंदन मनराल के भी नाम है। यह परीक्षा वर्ष 2015-16 में हुई थीं।

यह उत्तराखंड में हुई दारोगा भर्ती मामले में बड़ी कार्रवाई है। पुलिस ने जांच रिपोर्ट के अाधार पर इस मामले में नकल माफिया हाकम सिंह, चंदन मनराल समेत 12 लोगों पर मुकदमा दर्ज कर लिया है।

पंतनगर विश्वविद्यालय के दो अफसर भी आरोपित
वर्ष 2015 में हुए दारोगा भर्ती घोटाले में विजिलेंस ने हल्द्वानी सेंक्टर थाने में पंतनगर विश्वविद्यालय के दो अफसरों समेत 12 लोगों पर धोखाधड़ी, भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम व उत्तर प्रदेश नकल अधिनियम की धाराओं में मुकदमा दर्ज किया है।

आरोपितों में वीपीडीओ व वीडीओ पेपर लीक के आरोपित हाकम सिंह व चंदन सिंह मनराल का नाम भी शामिल है।वर्ष 2015-16 में उत्तराखंड में 339 दारोगा भर्ती बने थे।

इसमें कुमाऊं के 129 व गढ़वाल के 210 अभ्यर्थी शामिल थे। ग्राम पंचायत विकास अधिकारी (वीपीडीओ) परीक्षा से पर्दा उठते ही दारोगा भर्ती घोटाले का मामला प्रकाश में आया था।

शुक्रवार को सीएम पुष्कर सिंह धामी ने विजिलेंस को दारोगा भर्ती घोटाले के आरोपितों के विरूद्ध मुकदमा दर्ज करने की अनुमति दी थी।शनिवार को विजिलेंस ने हल्द्वानी सेक्टर में परीक्षा के लिए अधिकृत संस्थान पंतनगर विश्वविद्यालय के पशु चिकित्सा एवं पशु विज्ञान महाविद्यालय के डीन नरेंद्र सिंह जादौन व पूर्व असिस्टेंट इस्प्लेमेंट अधिकारी दिनेश चंद्र जोशी के अलावा नकल माफिया हाकम सिंह, चंदन मनराल, केंद्र पाल, सादिक मूसा, रुपेश जायसवाल, राजेश कुमार चौहान, संजीव कुमार चौहान, राजेश पाल, विपिन बिहारी, नितीश गुप्ता के विरुद्ध मुकदमा दर्ज किया है।

शासन से अनुमति मिलते ही विजिलेंस थाने में 12 लोगों के विरुद्ध मुकदमा दर्ज कर लिया है। विवेचना में जैसे-जैसे तथ्य सामने आएंगे, वैसे ही धाराओं में बढ़ोत्तरी होगी।

आरोपितों को बख्शा नहीं जाएगा। ओएमआर के अलावा भी कई विकल्प हमारे पास हैं। पी एस मीणा एसपी विजेंलेन्स

Ad
Ad
Ad
Ad
Ad
Ad
Ad Ad

Leave a Reply

Your email address will not be published.