नैनीताल मार्ग के 7231 पेड़, सड़क होगी चौड़ी

ख़बर शेयर करें



देहरादून में सहस्त्रधारा रोड के चौड़ीकरण के बाद अब काठगोदाम से नैनीताल तक सड़क चौड़ीकरण का प्लान है। इसके लिए हजारों हरे पेड़ों को काटने की तैयारी हो गई है। इसका सर्वे पूरा हो चुका है।


भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण काठगोदाम से नैनीताल रोड को टू लेन बनाने की तैयारी में हैं। इसके लिए सड़क को 12 मीटर तक चौड़ा करना है। इस चौड़ीकरण की राह में सबसे बड़ी बाधा इस सड़क के किनारे लगे वर्षों पुराने पेड़ हैं। ये पेड़ जहां इस मार्ग को प्राकृतिक रूप से खूबसूरत बनाते हैं वहीं अब विकास की राह में रोड़ा भी बन रहें हैं।


भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण इन पेड़ों को काटने की तैयारी कर रही है। गुरुग्राम की एक कंपनी से इस मार्ग के किनारे लगे पेड़ों का सर्वे कराया गया है। सर्वे पूरा भी हो गया है। सर्वे के अनुसार कुल 7231 पेड़ों को काटा जाएगा। भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण अब इन पेड़ों के मूल्यांकन के लिए वन विभाग को पत्र लिख रहा है।


साथ ही सड़क की जद में आ रही बिजली और पानी की लाइनों को हटाने में आने वाले खर्च का प्रस्ताव तैयार करने के लिए उर्जा निगम और जल संस्थान को भी पत्र लिखा है। विभागीय अधिकारियों के अनुसार अगले दो माह में प्रोजेक्ट की डीपीआर तैयार कर ली जाएगी। अब जल्द सड़क के टू लेन बनने की उम्मीद है।


कट जाएंगे दशकों पुराने पेड़
अगर आप कभी काठगोदाम नैनीताल मार्ग पर गए होंगे तो सड़क के किनारे खड़े ऊंचे ऊंचे पेड़ आपको हमेशा से ही एक रहस्यमयी सुकून देते रहें होंगे। लेकिन अब जल्द ही ये सुकून खत्म होने वाला है। सड़क के चौड़ीकरण के लिए बांज, सुरई, मोरपंखी, पांगर, देवदार, कुकाट और काफल के पेड़ों को काटने की तैयारी है। आमतौर पर इन प्रजाति के पेड़ों को आकार लेने में 20 से 25 साल का समय लग जाता है।

Ad
Ad
Ad

Leave a Reply

Your email address will not be published.