नैनीताल की छवि खराब करने से आक्रोशित युवकों ने दीक्षा के हत्यारोपी इमरान की कोतवाली में की ठुकाई

Ad
ख़बर शेयर करें

नैनीताल। विगत 15 अगस्त को दिल्ली की दिशा मिश्रा हत्याकांड को लेकर पुलिस ने खुलासा कर दिया है इसमें पुलिस ने बताया कि दिशा मिश्रा की हत्या करने वाले अभियुक्त ऋषभ उर्फ इमरान को यूपी के गाजियाबाद से पुलिस के द्वारा गिरफ्तार कर लिया गया है और इस मामले में पुलिस ने जानकारी देते हुए बताया है कि ऋषभ उर्फ इमरान के साथ दिशा मिश्रा लिव इन रिलेशनशिप में रहती थी और 15- 16 अगस्त की रात ऋषभ उर्फ इमरान अपने दो दोस्तों के साथ में नैनीताल घूमने आए उन्होंने नैनीताल के होमस्टे के रूम नंबरनंबर 307 पर कमरा बुक किया और रात को 1:55 पर दिशा मिश्रा की जन्मदिन की पार्टी मनाई।

जिसके बाद उसके दो दोस्त दूसरे कमरे में चले गए और दिशा मिश्रा की गला दबाकर हत्या कर दी और वह होटल से भाग गया।घटना की जानकारी मिलने के बाद पुलिस ने कई टीमें बनाकर आरोपी की गिरफ्तारी के लिए रवाना की जिसके बाद पुलिस ने आरोपी को गाजियाबाद से गिरफ्तार कर लिया गया पूछताछ में ऋषभ उर्फ इमरान ने बताया कि वह लंबे समय से दीक्षा के साथ लिव इन रिलेशनशिप में रह रहा था लेकिन पिछले दो ढाई महीनों से छोटी-छोटी बातों को लेकर उनके बीच में झगड़ा हो रहा था।

इस बीच 15 अगस्त की रात्रि को भी उनके बीच कहासुनी हो गई और झगड़ा हो गया आवेश में आकर इमरान द्वारा उसका गला दबाकर हत्या कर दी गई इमरान ने कहा कि वह किसी तरह दीक्षा से पीछा छुड़ाना चाहता था पुलिस ने घटना का खुलासा कर आरोपी को कोर्ट में पेश करने की कार्यवाही की जा रही है। लेकिन इसी बीच पुलिस की लापरवाही का कारण बन गई और हत्यारोपी को मीडिया के सामने पेश करने के कुछ देर बाद ही पुलिस के जवान जैसे ही आरोपी को पैदल जेल ले जाने के लिए कोतवाली से बाहर निकले ही थे वैसे ही मां खड़े कुछ युवकों ने उसके ऊपर हमला बोल दिया और उसके ऊपर थप्पड़ ओं की बरसात कर दी वहीं युवकों का कहना था कि दिल्ली से अपनी महिला मित्र को नैनीताल लाकर उसकी हत्या करने की घटना को अंजाम दिया और इससे नैनीताल का नाम पूरे देश में बदनाम करके रखा है।

और अचानक हुए इस तरह हमले से पुलिसकर्मी भी हैरान और परेशान दिखे वहीं पुलिस ने इमरान को हमलावरों के हाथों से छुड़ाकर तुरंत कोतवाली में ले गए जहां उसे कुछ देर बाद कड़ी सुरक्षा के बीच अदालत के लिए रवाना किया गया लेकिन अभी तक यह पता नहीं चल पाया कि इस पूरे घटनाक्रम में हमलावर कौन थे? लेकिन ऐसा अंदाजा लगाया जा रहा है कि वह हिंदूवादी संगठन हो सकते हैं।

Ad
Ad
Ad
Ad
Ad
Ad
Ad
Ad
Ad
Ad
Ad
Ad

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *