एम0आई0ई0 टी0 कुमाऊं हल्द्वानी में आजादी का अमृत महोत्सव के उपलक्ष्य में स्वतंत्रता दिवस का आयोजन

ख़बर शेयर करें

एम0आई0ई0 टी0 कुमाऊं हल्द्वानी में आज आजादी के 75 वर्ष पूरे होने पर आजादी का अमृत महोत्सव प्रसंग के तहत 76 वा स्वतंत्रता दिवस मनाया गया।

छात्र छात्राओं ने अनेक रंगारंग कार्यक्रम प्रस्तुत किए, बी0बी0ए0 के छात्र किशोर के द्वारा गाया गया गाना हर करम अपना करेंगे ए वतन तेरे लिए… ने समा बांध दिया, बी. एस.सी. नर्सिंग की छात्रा दीपांशा रावत ने आजादी दिलाने वाले वीरों को अपनी स्पीच के साथ नमन प्रस्तुत किया । साथ ही मानसी और लक्ष्मी के द्वारा प्रस्तुत नृत्य देश रंगीला ……से सभी झूमने लगे ।
महेश के द्वारा गया गया गीत ए देश मेरे ….ने सभी लोगो का मन मोह लिया । प्राची , पायल, गीता, दीक्षा के द्वारा कुमाऊनी नृत्य प्रस्तुत किया गया जिसमे अपनी सांस्कृतिक झलक दिखाई दी ।
बी. बी. ए, बी. सी. ए. और बी. कॉम के छात्रों के द्वारा सामूहिक नृत्य प्रस्तुत किया जो देशभक्ति से ओत प्रोत था । सभी छात्र छात्रों में अपने देश के प्रति देशभक्ति देखने को मिली।
आज के छात्र कल का बेहतर भविष्य है । इसी भविष्य की नींव विद्यालय में रखी जाती है , जहां पर छात्रों का चहुंमुखी विकास किया जाता है ।

कॉलेज के प्रबंध निदेशक डॉ0 बी0 एस0 बिष्ट जी के द्वारा आजादी के 75 वर्ष पूरे होने पर सभी देशवासियों को, संस्थान के कर्मचारियों को तथा सभी छात्र छात्राओं को हार्दिक शुभकामनाएं दी। एक बहुत ही सुंदर संदेश दिया कि सभी को अपनी मिट्टी से जुड़े रहना चाहिए और अपने देश के हित में कार्य करना चाहिए । छात्रों को बेहतर भविष्य देने के लिए सभी को प्रेरणा दी।

कॉलेज के कार्यकारी निदेशक डॉ0 तरुण सक्सेना जी के द्वारा आजादी के अमृत महोत्सव पर महत्त्वपूर्ण संदेश दिया छात्र छात्राओं में देश के प्रति अपने कर्तव्यों के विषय में बताया।

डॉ0 कमल रावत जी ने देश के युवाओं को आगे बढ़ने की प्रेरणा दी। छोटी छोटी अच्छी आदतों से अच्छे व्यक्तित्व का निर्माण होता है क्योंकि आज के युवा कल का भविष्य है।

कार्यक्रम में असिस्टेंट प्रोफ० डॉ0 रीतू तेवतिया,प्रियंका सुयाल, प्रियंका जोशी , आंचल नेगी, मयूर बगड़वाल , सोनल उपाध्याय, ललिता टाकुली , नीलम देव, पूजा जोशी, वात्सल्य शर्मा, कमलेश मिस्त्री, विनोद बुधलकोटी, दीपिका श्रीवास्तव, आदि उपिस्थित रहे।

Ad
Ad
Ad

Leave a Reply

Your email address will not be published.