सब्जियों और फलों के दाम किस वजह से बढ रहे हैं जानिए क्या कहते हैं जानकर(देखें वीडियो)

ख़बर शेयर करें

हल्द्वानी एसकेटी डॉट कॉम

पेट्रोल डीजल के लगातार बढ़ते दामों की वजह से हर प्रकार के खाद्य पदार्थों के दाम बढे हैं इनमें सब्जी फल राशन समेत सभी चीजें शामिल हैं।

कभी पास कभी टमाटर तो अब नींबू सिर चढ़कर बोल रहा है। जिसने हूं उसको ₹70 भी कोई नहीं पूछता था आज वह 260 से ऊपर के दाम खा रहा है वही पहले जो अदरक ₹100 किलो तक नहीं मिल पाती थी। उसके दाम से पिछले मैंने 10 ₹20 किलो तक आ गई। इन सब सब्जियों फलों के दामों में उठापटक के बारे में हमने मंडी समिति के पूर्व में डायरेक्टर रह चुके प्रसिद्ध व्यवसाई एवं आआढ़ती देवानंद सिंधी से पूछा तो उन्होंने कहा कि पेट्रोल डीजल के दाम बढ़ने से जो भी महंगाई बढ़ी वह तो हर वस्तु का दाम बढ़ता है है

क्योंकि किसी भी वस्तु को एक स्थान से दूसरे स्थान पर ले जाने के लिए वाहन की जरूरत पड़ती है और वाहन को चलने के लिए डीजल पेट्रोल की जरूरत होती है जब डीजल पेट्रोल महंगा हो जाता है तो निश्चित रूप से भाड़ा नहीं मिलूंगा हो जाता है । लेकिन वास्तविक रूप से किसी भी किसी भी सब्जी अथवा फल का नाम उसकी पैदावार पर निर्भर करता है सीधा-सीधा अर्थशास्त्र का नियम है अगर पैदावार ज्यादा मात्रा में होगी तो उसके दाम कम होंगे वह आसानी से लोगों तक उपलब्ध हो जाएगी वहीं अगर पैदावार प्रभावित हो जाएगी तो निश्चित रूप से वह महंगी होगी उसके खरीदार ज्यादा होंगे लेकिन वह उपलब्ध नहीं होगी।

जिससे वह सभी लोगों को सुला नहीं हो पाएगी उन्होंने कहा कि वर्तमान मौसम की वजह से नींबू तथा मिर्च की पैदावार नहीं के बराबर रही जिसकी वजह से नींबू ₹260 के लोग तक और यहां तक कि जो सब्जी वाले मिर्च सब्जी के साथ फ्री देते थे वही मिर्च अब लोगों को डेढ़ ₹100 से अधिक दामों पर खरीदनी पड़ रही है।

हल्द्वानी जो कि सबसे बड़ी तथा उत्तर भारत की दूसरे नंबर की मंडी है जगह-जगह अतिक्रमण से इसकी हालत खराब होती जा रही है और यहां पर कुछ लोग फुटकर बेचने का प्रयास करते हैं लेकिन यहां पर फुटकर बेचना प्रतिबंधित है उन्होंने यह भी कहा कि फलों के मुकाबले में सब्जियों के दाम ज्यादा बड़े हुए हैं उसका कारण यह भी है कि आबादी बढ़ने के अलावा सब्जी उत्पादन करने वाले काश्तकारों की संख्या लगातार कम होती जा रही है जिसकी वजह से ज्यादा लोगों को सब्जी की जरूरत होती है और सब्जी उपलब्ध नहीं होती है जिसकी वजह से यह महंगी हो जाती है बाजार में किसी भी उत्पाद जिसमें सब्जी हो फल अथवा अन्य सामग्री हो अगर प्रचुर मात्रा में आएगा तो निश्चित रूप से उसके दाम में कमी होगी अगर उत्पादन सही ढंग का नहीं होगा तो निश्चित रूप से वह महंगा होगा मंडी की कई बातों को उजागर करते हुए उन्होंने कहा कि मंडी समिति को निश्चित रूप से कड़ाई से पालन करना चाहिए आढ़तियों को सुविधा देनी चाहिए

Ad
Ad
Ad
Ad

Leave a Reply

Your email address will not be published.