#kisan #cm #harish rawa tकिसानों के साथ हरीश रावत का सीएम आवास कूच, पुलिस ने बैरिकेड्स लगाकर रोका

ख़बर शेयर करें

हरिद्वार में बाढ़ और आपदा से प्रभावित किसानों को उचित मुआवजे की मांग को लेकर पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत ने मुख्यमंत्री आवास कूच किया है। हरीश रावत के साथ बड़ी संख्या में किसान भी मौजूद रहे। किसानों का आरोप है कि सरकार न तो किसानों को उचित मुआवजा दे रही है और न ही किसानों की बात सुन रही है।

Ad
Ad

ट्रैक्टर पर बैठ पहुंचे हरीश रावत
पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत ने शनिवार को बड़ी संख्या में कांग्रेस कार्यकर्ताओं और हरिद्वार के किसानों के साथ मुख्यमंत्री आवास कूच किया। हरीश रावत ट्रैक्टर पर सवार होकर कांग्रेस दफ्तर से निकले। इस दौरान उनके साथ बड़ी संख्या में कार्यकर्ता और किसान भी आगे बढ़े। हरिद्वार से आए किसानों के हाथों में गन्ना था।

सरकार पर लगाए आरोप
हरीश रावत और उनके साथ मौजूद किसानों को पुलिस ने हाथीबड़कला में बैरिकेड्स लगाकर रोक दिया। पुलिस के जरिए रोके जाने के बाद लोग वहीं धरने पर बैठ गए। किसानों का आरोप है कि बाढ़ और आपदा के चलते उनकी गन्ने की फसल के साथ ही अन्य फसलें भी खराब हो गईं लेकिन सरकार ने कोई सुध नहीं ली। किसानों का आरोप है कि सरकार ने उनके लिए जो मुआवजा तय किया है वो बेहद कम है। किसान गन्ने का समर्थन मूल्य बढ़ाने की भी मांग कर रहें हैं।

हरीश रावत ने साधा निशाना
वहीं इस दौरान हरीश रावत ने भी सरकार पर किसानों की अनदेखी का आरोप लगाया है। हरीश रावत ने कहा है कि सरकार को हरिद्वार के किसानों के नुकसान की भरपाई करनी चाहिए। इसके साथ ही उनके फसली ऋण माफ करने चाहिए।

सड़े गन्ने लेकर पहुंचे हरीश रावत
इस प्रदर्शन के दौरान हरीश रावत टैक्ट्रर पर सड़े हुए गन्ने लेकर भी पहुंचे। हरीश रावत ने ये गन्ने बैरिकेड्स के पास ही सड़क पर उतरवाए। किसानों का आरोप है कि हरिद्वार और आसपास के इलाकों में आई भारी बारिश ने उनकी फसलों को खासा नुकसान पहुंचाया है। अधिक पानी के चलते उनकी गन्ने की फसल पूरी तरह खराब हो गई।