यहाँ पोस्टर लगाने के बाद फिर बढा़ तनाव, मकान मालिकों ने दुकानें खाली कराने का किया ऐलान

ख़बर शेयर करें

उत्तरकाशी के पुरोला में नाबालिग किशोरी को भगाने के मामले में विवाद थमने का नाम नहीं ले रहा है। विशेष समुदाय के खिलाफ लोगों में आक्रोश देखने को मिल रहा है। जिसके बाद विशेष समुदाय से दुकानें खाली कराने के लिए मकान मालिकों ने ऐलान कर दिया है।

Ad
Ad

मुख्य बिंदु
पुरोला में पोस्टर लगाने के बाद फिर बढा़ तनाव
नौ मकान मालिकों ने किया दुकान खाली कराने का ऐलान
समुाय विशेष के व्यापारियों ने एसडीएम को सौंपा ज्ञापन
व्यापार मंडल अध्यक्ष से किया दुकानें खुलवाने का अनुरोध
पुरोला में पोस्टर लगाने के बाद फिर बढा़ तनाव
पुरोला में नाबालिग लड़की को भगाकर ले जाने के बाद शुरू हुआ विवाद थमने का नाम नहीं ले रहा है। बीते दिन पुरोला बाजार में समुदाय विशेष के व्यापारियों की दुकानों के बाहर 15 जून की प्रस्तावित महापंचायत से पहले दुकानें खाली करने के पोस्टर चस्पा किए गए।

जिसके बाद से माहौल और भी ज्यादा खराब हो गया है। हालांकि पुलिस ने पोस्टर चस्पा कर माहौल खराब करने वाले अज्ञात लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर लिया है। लेकिन फिर भी तनाव कम होने का नाम नहीं ले रहा है।

नौ मकान मालिकों ने किया दुकान खाली कराने का ऐलान
पुरोला बाजार में समुदाय विशेष की दुकानों को खाली करवाने के लिए राष्ट्रीय संत दर्शन लाल भारती दुकानों के मकान मालिकों से मिले। जिसके बाद नौ दुकान मालिकों ने दुकानें खाली करवाने का ऐलान कर दिया है। दुकान मालिकों का कहना है कि वो अपनी दुकानें समुदाय विशेष के व्यापारियों से खाली करवाएंगे।

समुाय विशेष के व्यापारियों ने एसडीएम को सौंपा ज्ञापन
जहां एक ओर दुकान मालिकों ने दुकानें खाली करवाने का ऐलान कर दिया है तो वहीं दूसरी ओर समुदाय विशेष के व्यापारी बाल खां, अशरफ, मोहम्मद रईस ने एसडीएम से मुलाकात कर ज्ञापन सौंपा।

उन्होंने कहा कि एक हफ्ते से भी ज्यादा समय से उनकी दुकानें बंद हैं। जिस कारण उनके सामने आर्थिक संकट खड़ा हो गया है। उन्होंने सुरक्षा के बीच उनकी दुकानें खुलवाई जाने का अनुरोध किया।

व्यापार मंडल अध्यक्ष से किया दुकानें खुलवाने का अनुरोध
इसके साथ ही समुदाय विशेष के व्यापारियों ने व्यापार मंडल अध्यक्ष से भी मुलाकात की। उन्होंने अध्यक्ष बृहमोहन सिंह चौहान से मुलाकात कर दुकानें खुलवाने का अनुरोध किया। व्यापार मंडल अध्यक्ष ने कहा कि अभी माहौल ठीक नहीं है।