धरने पर बैठे हरीश रावत ने तानाशाही के खिलाफ लड़ने का किया एलान

ख़बर शेयर करें


उत्तराखंड के पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत प्रदेश की भाजपा सरकार के खिलाफ बीते तीन दिन से धरना दे रहे हैं। पूर्व मुख्यमंत्री को और भी बड़े नेताओं व कार्यकर्ता साथ मिल रहा है। हरीश रावत ने आरोप लगाया है कि हरिद्वार में हुए हालिया पंचायत चुनाव में भाजपा सरकार ने गड़बड़ी की है। इन आरोप लगाने वाले कांग्रेस कार्यकर्ताओं पर उसने मुकदमे दर्ज कर दिए हैं। रावत ने कहा है कि जब तक मुकदमा वापस नहीं होते तब तक थाना परिसर में धरना जारी रहेगा।


शनिवार सुबह हरीश रावत ने बहादराबाद थाना परिसर में व्यायाम किया। इस बीच उन्होंने भाजपा सरकार पर तानाशाही करने का आरोप लगाया। उन्होंने कहा कि अगर विपक्ष तानाशाही के खिलाफ लड़ाई नहीं लडेंगा तो भाजपा सरकार पूरे विपक्ष को गंगा में बहा देगी। उन्होंने कहा है कि भाजपा सरकार से आम जनता भी त्रस्त हो गई है इसलिए वो जनता को साथ लेकर आंदोलन कर रहे हैं। हरीश रावत की बेटी अनुपमा रावत हरिद्वार जिले की ग्रामीण सीट से विधायक हैं। अनुपमा रावत भी धरने में हरीश रावत के साथ डटी हुई हैं।


धरने पर बैठे हरीश रावत और कार्यकर्ताओं ने आज बहादराबाद थाना परिसर में सफाई की। बता दें कि शुक्रवार को धरने पर बैठे किसानों के पशुओं को थाने में लाने को लेकर प्रदर्शनकारियों और पुलिस के बीच नोकझोंक हो गई थी। इसके बाद पशुओं को थाना परिसर में ही बांध दिया गया था। हरीश रावत ने कहा कि भाजपा की सरकार पुलिस-प्रशासन पर दबाव डालकर कांग्रेस कार्यकर्ताओं को धमकाने का काम कर रही है। इस बीच नेता प्रतिपक्ष यशपाल आर्य ने कहा कि भाजपा सरकार कांग्रेस कार्यकर्ताओं पर झूठे मुकदमे दर्ज कराकर डर का माहौल बना रही है।

Ad
Ad
Ad
Ad
Ad
Ad
Ad Ad

Leave a Reply

Your email address will not be published.