हल्द्वानी- यहां रस्सी का गला घोट कर महिला को मार भागी लड़की, फिर हुई जिंदा, जानिए पूरा मामला

ख़बर शेयर करें

हल्द्वानी।यहां एक बेहद चौंकाने वाला मामला सामने आया है। यह घटना गत तीन फरवरी की बताई जा रही है, लेकिन इसका खुलासा अब हुआ है। इसके बारे में जिसने भी सुना, वो दंग रह गया। घर में जिस लड़की की खातिरदारी की, उसी ने गला घोंट दिया और मरा समझकर फरार हो गई। लेकिन, बाद में जब बेहोशी टूटी तो पूरे मामले का खुलासा हुआ। काठगोदाम पुलिस ने महिला की तहरीर के आधार पर आरोपी लड़की के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज कर ली है। पूरा मामला जमीनी विवाद से जुड़ा बताया जा रहा है।


प्रेम कुटीर नैनीताल रोड काठगोदाम निवासी पूनम अल्का सिंह पत्नी स्व.प्रवीन चंद्र सिंह ने पुलिस को बताया कि उनका खीमा नंद सनवाल, कमला बेलवाल, महेश बेलवाल और रमेश तिवारी के साथ जमीनी विवाद चल रहा है। जिसका मामला न्यायालय में विचाराधीन है। आरोप है कि शाम आसी नाम की एक लड़की उनके घर आई। जिसे वह अपनी जानने वाली रोजी और डेजी के जरिये पहचानती थीं।


पूनम ने आसी को अंदर बुलाया। उसे केक खिलाया और कॉफी पिलाई। इतना ही नहीं उसे रोटी और सब्जी भी खिलाई। जिसके बाद पूनम रसोईंघर में काम करने चली गई। आरोप है कि इसी दरम्यान आसी रसोईंघर में आई और रस्सी से पूनम का गला कस दिया। जिससे वह बेहोश हो गई। आसी को लगा कि पूनम की मौत हो चुकी है। जिसके बाद आसी ने बाहर से कमरा बंद किया और भाग गई।


इसके कुछ देर बाद अचानक पूनम को होश आ गया। उसकी नाक से खून निकल रहा था और आंखे लाल पड़ चुकी थीं। जिसके बाद उसने दरवाजा खोलने का प्रयास किया। दरवाजा न खुलने पर उसने शोर मचाया और जब बात नहीं बनी तो फोन कर पड़ोसी देवी राम को बुलाया। पूनम को आनन-फानन में बेस अस्पताल ले जाया गया। जहां इलाज के बाद पूनम ने काठगोदाम पुलिस को तहरीर दी और बताया कि खीमानंद सनवाल, कमला बेलवाल, महेश बेलवाल और रमेश तिवारी ने पहले भी उसके साथ लड़ाई-झगड़ा कर जान से मारने की धमकी दी थी।


उसे शक है कि आसी को जान लेने के लिए भेजा था। पुलिस ने पूनम की तहरीर पर सभी आरोपियों के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज कर ली है। काठगोदाम थानाध्यक्ष प्रमोद पाठक ने बताया कि ये घटना बीती 3 फरवरी की है। आरोपियों के खिलाफ आईपीसी की धारा 307 व 120बी के तहत रिपोर्ट दर्ज की गई है। जांच की जा रही है और जांच रिपोर्ट आने के बाद कार्रवाई की जाएगी।

Ad
Ad
Ad
Ad

Leave a Reply

Your email address will not be published.