चार धाम यात्रियों को रोकने पर गुस्साया होटल एसोसिएशन यहां ली जल समाधि ( वीडियो देखने के लिए लिंक खोलें)

ख़बर शेयर करें

ऋषिकेश एसकेटी डॉट कॉम

होटल एसोसिएशन के पदाधिकारियों ने ऋषिकेश के मणिकर्णिका घाट पर सरकार के द्वारा चारधाम यात्रियों को रोके जाने के खिलाफ जल समाधि ली जिसस पुलिस प्रशासन के हाथ पाँव फूल गए।

पुलिस और एसडीआरएफ की टीम द्वारा एसोसिएशन के पदाधिकारियों को रोकने का प्रयास किया लेकिन इसके बावजूद होटल व्यवसाई गंगा में चले गए हालांकि बाद में एसडीआरएफ और पुलिस की टीम ने बलपूर्वक व्यापारियों को नदी से बाहर निकाला।

व्यापारियों का कहना है कि पर्यटन मंत्रियों ने तुगलकी फरमान जारी कर चारधाम यात्रियों को परेशान करना शुरू कर दिया है बिना पंजीकरण के चार धाम यात्रा पर आने वाले यात्रियों को रोके जाने से होटल व्यवसायियों पर प्रतिकूल फर्क पड़ रहा है। व्यापारियों ने कहा कि यदि सरकार ने अपना फैसला वापस नहीं लिया तो बड़ेति चुंगी के पास गंगोत्री हाईवे पर जाम लगा दिया जाएगा।

बिना पंजीकरण के चारधाम यात्रा पर पहुँचे रहे श्रद्धालुओ को ऋषिकेश एवं अन्य जगहों पर रोके जाने के विरोध में आज होटल एसोसिएशन ने मणिकर्णिका घाट पर जल समाधि ली। गुस्साए होटल स्वामियों ने सरकार के खिलाफ जोरदार नारेबाजी कर रोष जताया।


मौके पर पहुँचे गंगोत्री विधायक सुरेश चौहान ने होटल एसोसिएशन के पदाधिकारियों को आश्वासन देकर शांत कराया। होटल एसोसिएशन के अध्यक्ष शैलेन्द्र मटूड़ा ने कहा कि चारधाम यात्रा के प्रवेश बैरियरों पर बिना पंजीकरण वाले यात्रियों को रोका जा रहा है। उन्होंने कहा कि राज्य के पर्यटन मंत्री तुगलकी फरमान से पंजीकरण के नाम यात्रियों को बेवजह परेशान किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि सरकार के इस निर्णय से होटल व्यवसायियों को खासा नुकसान हो रहा है।

तीर्थयात्री अपनी बुकिंग निरस्त करवा रहे हैं। होटल एसोसिएशन ने उक्त निर्णय दो दिनों के भीतर वापस नहीं लेने पर चुंगी- बड़ेथी में गंगोत्री हाईवे पर चक्का जाम करने की चेतवानी दी। उन्होंने सरकार से चारधाम में तीर्थयात्रियों की संख्या की बाध्यता समाप्त कर संख्या एक समान रखने की मांग की मणिकर्णिका घाट पर जल समाधि लेने वालों में होटल एसोसिएशन के अध्यक्ष शैलेंद्र मटूड़ा, अजय पुरी, रमेश पैन्यूली, आमोद पंवार, अरविंद कुड़ियाल, माधव जोशी, तिलक सोनी, दीपेंद्र पंवार आदि मौजूद रहे।

Ad
Ad
Ad
Ad

Leave a Reply

Your email address will not be published.