देहरादून गोलीकांड मामला : धरने पर बैठे मृतक के परिजन, की आरोपियों को फांसी की सजा देने की मांग

ख़बर शेयर करें




देहरादून गोलीकांड मामला : धरने पर बैठे मृतक के परिजन, की आरोपियों को फांसी की सजा देने की मांग
देहरादून के डोभाल चौक में हुई फायरिंग मामले में मृतक दीपक बडोला के परिजन और स्थानीय लोग धरने पर बैठ गए हैं। मृतक के परिजनों ने आरोपियों के लिए फांसी की सजा की मांग की है।

Ad
Ad

मंगलवार को मृतक के परिजन और स्थानीय लोग डोभाल चौक पर धरने पर बैठ गए हैं। इसके साथ ही स्थानीय लोगों ने चौक में सभी दुकानें बंद कर दी है। प्रदर्शनकारियों की मांग है कि सभी आरोपियों को फांसी की सजा दी जाए। इसके साथी ही मुख्य आरोपी सोनू भारद्वाज के घर बुल्डोजर चलाये जाए।

मुख्य आरोपी की तलाश जारी
बता दें गोलीकांड मामले में पुलिस तीन आरोपियों को अरेस्ट कर चुकी है। जबकि फायर झोंकने वाला आरोपी रामवीर अभी फरार है। रामवीर ने ही तीनों युवकों पर फायरिंग की थी। आरोपी मुजफ्फरनगर का बदमाश है। हाल में ही रामवीर हत्या के आरोप में जेल से पैरोल पर आया था। पुलिस आरोपी की तलाश में दबिश दे रही है।

गाड़ी को वापस मांगने पर हुआ था विवाद
घायलों से पूछताछ में उनके द्वारा बताया गया कि देवेंद्र कुमार उर्फ सोनू भारद्वाज पुत्र इन्द्र कुमार शर्मा व मोनू भारद्वाज पुत्र इन्द्र कुमार शर्मा निवासी रायपुर ब्याज का काम करते थे। जिसके घर में कुछ दिनों से रामवीर निवासी मुजफ्फरनगर, योगेश निवासी मेरठ, मनीष निवासी पटना रह रहे थे।

पुलिस द्वारा दी जानकारी के अनुसार रामवीर के खिलाफ हत्या के कई मुक़दमे दर्ज हैं। इनका एक अन्य मित्र अंकुश निवासी शिवलोक कालोनी भी उनके साथ था। चारों व्यक्ति समय-समय पर सोनू भारद्वाज के घर आया-जाया करते थे। शनिवार को सागर यादव पुत्र दिनेश यादव निवासी नेहरू ग्राम ने एक वाहन टाटा स्ट्रोम को सोनू के घर के पास सवा चार लाख रूपये में गिरवी रख कर गया था।

वाहन मालिक की रजामंदी के बिना गाड़ी को रखा था गिरवी
वाहन का मालिक दीपक बडोला था, जिसकी बिना रजामंदी से सोनू ने वाहन को गिरवी रख दिया था। दीपक बडोला को जानकारी होने पर उसने सागर यादव से अपना वाहन मांगा तो शम्भू यादव ने दीपक बडोला को गाली गलौच व वाहन वापस न करने की धमकी दी। जिस पर दीपक ने सोनू भारद्वाज से अपना वाहन वापस मांगने के लिए संपर्क किया पर सोनू ने भी वाहन देने से मना कर दिया।

दीपक ने ये सारी बात अपने जानने वाले सुभाष क्षेत्री, मनोज नेगी व अन्य लोगों को बताई और शनिवार रात को दीपक, संजय क्षेत्री व मनोज नेगी के साथ अपना वाहन वापस मांगने सोनू भारद्वाज के घर गया। घर के पास सोनू, मोनू, रामवीर, मनीष. अंकुश, योगेश द्वारा उन पर फायरिंग कर सुभाष क्षेत्री, मनोज नेगी और दीपक को गम्भीर रूप से घायल कर दिया।

जिसके बाद सुभाष क्षेत्री को उसके परिजन अस्पताल लेकर पहुंचे। इसके साथ ही मनोज नेगी को पुलिस द्वारा उपचार के लिए जिला अस्पताल भिजवाया गया। फायरिंग में तीसरे घायल दीपक बडोला को शव सोमवार सुबह डोभाल चौक के पास नाले में पड़ा मिला। पुलिस ने मृतक के शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भिजवा दिया है।