आयोग की कार्यप्रणाली से परेशान परिक्षार्थी, परीक्षा टालने की मांग

ख़बर शेयर करें

उत्तराखंड लोकसेवा आयोग के जरिए उद्यान विकास अधिकारी के पद के लिए होने वाली मुख्य परीक्षा विवादों में पड़ती नजर आ रही है। अभ्यर्थी इस परीक्षा को टालने की मांग कर रहें हैं। दरअसल आयोग ने उद्यान विकास अधिकारी के पदों के लिए आवेदन मांगे थे। इसके लिए प्रारंभिक परीक्षा कराई गई। 2 अगस्त को ही इस परीक्षा का परिणाम जारी हुआ है। इसी बीच इस पद के लिए मांगी गई योग्यता सवालों के घेरे में आ गई। आयोग ने पद पर आवेदन के समय जो नोटिफिकेशन जारी किया उसमें बीएससी एग्रीकल्चर किए हुए अभ्यर्थियों को परीक्षा के लिए अर्ह माना गया। आयोग ने कुछ दिनों पहले परिणाम जारी किया था तो में ऐसे बच्चों को बाहर कर दिया और तर्क दिया कि इस पद के लिए बीएससी हार्टीकल्चर होना जरूरी है।

मामला कोर्ट पहुंचा और कोर्ट ने बीएससी एग्रीकल्चर को भी शामिल करने के लिए कहा। आयोग ने फिर से रिजल्ट बनाया और 2 अगस्त को ये परिणाम जारी किया। इसी बीच आयोग ने ऐलान किया कि मुख्य परीक्षा की तारीख 20 अगस्त होगी। परिक्षार्थी मांग कर रहें हैं कि मुख्य परीक्षा की तिथि को आगे बढ़ाया जाए क्योंकि महज 18 दिनों में मुख्य परीक्षा के लिए तैयारी कर पाना संभव नहीं है। लिहाजा मुख्य परीक्षा की तिथि को आगे बढ़ाया जाए। इसके साथ ही कई ऐसे मामले में हैं जिनमें कोर्ट 6 अगस्त को सुनवाई करने जा रहा है। ऐसे में कोर्ट क्या फैसला लेता है ये भी देखना होगा। आयोग 20 अगस्त को मुख्य परीक्षा के लिए शिड्यूल जारी कर रहा है लेकिन अभ्यर्थियों का कहना है कि खुद आयोग को भी नहीं पता कि मुख्य परीक्षा में कितने परिक्षार्थी शामिल होंगे। इस संबंध में कोर्ट में सुनवाई होनी है। इसके साथ ही इसी दौरान कई अन्य परिक्षाओं का शिड्यूल पहले से ही जारी है जैसे UPSC की परीक्षा 16 अगस्त को होने जा रही है। वहीं 9 अगस्त को FRO की परीक्षा तय है।

आयोग की कार्यप्रणाली पिछले कुछ सालों से हर तरफ से सवालों के घेरे में रही है। परिक्षाओं का कैलेंडर हो या फिर परिक्षाओं के पेपर लीक होने का मामला। आयोग हर जगह अपने अप्रबंधन को लेकर चर्चाओं में रहा। हाल ही में लोअर पीसीएस की परीक्षा में भी भगवान भरोसे पेपर तैयार किया गया। हालात ये हुए कि आयोग को प्रश्नपत्र में पूछे गए 12 सवालों को डिलीट करना पड़ा। इस मामले में भी आयोग की जबरदस्त किरकिरी हुई। इसके साथ ही FRO, RO/ARO की परीक्षा में प्रश्नों को लेकर सवाल उठे। उत्तराखंड लोकसेवा आयोग नें नोटिफिकेशन मे उद्यान विकास अधिकारी के लिये योग्यता बीएससी एग्रीकल्चर लिखा था, जिसके लिये बहुत से बच्चे योग्य थे, परिणाम आने पर ऐसे बच्चों को बाहर कर दिया, आयोग का कहना था कि इसके लिये बीएससी horticulture मान्य है, सम्बंधित पद मे cut off मात्र 18 अंक गयी थी, न्यायालय के हस्तक्षेप से बीएससी एग्रीकल्चर की डिग्री मान ली गयी, जिसका परिणाम 2 अगस्त को आया, आयोग 20 को मुख्य परीक्षा करवाना चाहता है,

ये मामला अब सीएम धामी के पास भी पहुंच चुका है। सीएम धामी से भी परिक्षार्थियों ने परीक्षा को कुछ दिन आगे बढ़ाने की मांग की है। इसके साथ ही सीएम धामी को आयोग की कार्यप्रणाली से भी परिचित कराया गया है। सीएम धामी से इसलिए भी परिक्षार्थियों को उम्मीदें है क्योंकि हाल ही में UKSSSC की परीक्षा में पेपर लीक का मामला सीएम धामी के दखल के बाद खुल सका।

Ad
Ad
Ad
Ad

Leave a Reply

Your email address will not be published.