By-Election : इस बार मंगलौर उपचुनाव बेहद ही दिलचस्प, क्या सीएम धामी तोड़ पाएंगे मिथक ?

ख़बर शेयर करें


उत्तराखंड में दो सीटों पर उपचुनाव होने जा रहे हैं। दोनों ही सीटों पर उपचुनाव का मुकाबला जबरदस्त हो रहा है। मंगलौर सीट पर जीत की राह बीजेपी के लिए आसान नहीं है। यहां बीजेपी को उम्मीदवार भी बाहर से लाना पड़ा। बता दें कि मंगलौर सीट पर बीजेपी कभी जीत हासिल नहीं कर पाई है। इस बार उपचुनाव में भी इस सीट पर एक ही सवाल बार-बार उठ रहा है कि क्या सीएम धामी मिथक तोड़ पाएंगे ?

Ad
Ad

मंगलौर विधानसभा उपचुनाव में प्रचार ने जोर पकड़ लिया है। इस सीट पर बेहद ही कड़ा मुकाबला देखने को मिल रहा है। कांग्रेस और बसपा के साथ ही बीजेपी भी पूरी तैयारी के साथ इस बार मैदान में उतर गई है। बीजेपी प्रत्याशी करतार सिंह भड़ाना के प्रचार के लिए सीएम पुष्कर धामी कल मंगलौर पहुंचे। उन्होंने कहा कि करतार सिंह भड़ाना ने जनता की सेवा का संकल्प लिया है।

मंगलौर के किले को भेदने में आज तक भाजपा नाकाम
मंगलौर विधानसभा सीट की बात करें तो भाजपा आज तक मंगलौर के किले को भेदने में नाकाम रही है। अगर भाजपा और सीएम धामी की बात करें तो 2022 विधानसभा में भाजपा की पुनः सरकार बनाकर मिथक तोड़ने का काम किया था। वहीं इस बार मंगलौर विधानसभा में मिथक तोड़ने की तमाम कोशिशें करने में भाजपा और सीएम धामी लगे हुए हैं।

मंगलौर विधानसभा में हमेशा से मुस्लिम उम्मीदवार ही विधानसभा पहुंचता रहा है। साल 2002 से साल 2022 तक के विधानसभा चुनाव में यहां से कभी बीजेपी नहीं जीत पाई। अगर उपचुनाव में भाजपा मंगलौर में कमल खिलाने में कामयाब होती है तो सीएम धामी के लिए ये एक बड़ी उपलब्धि होगी।

भाजपा मंगलौर उपचुनाव में हार का सूखा खत्म करेगी
भाजपा प्रवक्ता कमलेश रमन का कहना है कि सीएम धामी ने प्रदेश के लिए विकास का कार्य किया है। प्रदेश की जनता उन पर विश्वास दिखाती आई है। उन्होंने आगे कहा कि इस बार सीएम धामी के नेतृव में भाजपा मंगलौर उपचुनाव में हार का सूखा खत्म कर जीत दर्ज करने जा रही है।

कांग्रेस जीत करेगी हासिल
कांग्रेस प्रदेश मुख्य प्रवक्ता गरिमा मेहरा दसौनी ने भाजपा के मंगलौर विधानसभा के प्रत्याशी पर हमला करते हुए कहा राज्य गठन के बाद से मंगलौर सीट पर भारतीय जनता पार्टी ने कभी जीत हासिल नहीं की। मंगलौर की जनता ने हमेशा भारतीय जनता पार्टी को आइना दिखाने का काम किया है।

जनता सब जानती है और जनता ऐसे व्यक्ति को कभी भी वोट नहीं करेगी जो कपड़ों की तरह पार्टी बदलता हो। काजी निजामुद्दीन लगतार जनता के बीच में रहे हैं और जनता उनपर भरोसा करती है। कांग्रेस मंगलौर सीट अपनी जीत दर्ज करने जा रही है। ऐसे में देखना ये होगा कि क्या सीएम धामी मंगलौर सीट पर भाजपा प्रत्याशी को जीत दिलाने में कामयाब होते हैं या फिर ये मिथक कायम रहेगा।