12 साल के लड़के से गैंगरेप, 3 दोस्तों ने प्राइवेट पार्ट में डाली रॉड

ख़बर शेयर करें

दिल्ली से एक दिल दहला देने वाली खबर सामने आई है. जहां आए दिन महिलाओं पर हो रहे अत्याचार की खबर सामने आती रहती है वहीं एक 12 साल के नाबालिक लड़के साथ सामूहिक बलात्कार की खबर सामने आई है. जिससे ऐसा लग रहा है कि अब लड़कियां ही नहीं लड़के भी दिल्ली में सुरक्षित नहीं है.

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार दिल्ली महिला आयोग ने रविवार को बताया कि पूर्वोत्तर दिल्ली का सीलमपुर इलाका में रहने वाला एक नाबालिग बच्चे के साथ कथित तौर पर उसका सामूहिक बलात्कार हुआ है. उस लड़के को बरी बुरी तरह से पीटा है और उसके निजी पार्ट में रॉड घुसाया था. बताया जा रहा है कि उसके साथ यह दुष्कर्म उसके पहचान वाले 3 लोगों ने किया है. जो उसके ही दोस्त थे और वहीं
आस पड़ोस में रहते थे.

पीड़ित लड़का इस वक़्त एलएनजेपी अस्पताल में भर्ती है और उसकी हालत काफी गंभीर बताई जा रही है. लड़के ने घटना के चार दिन बाद गुरुवार को अपने माता-पिता को घटना की जानकारी दी थी.

दिल्ली महिला आयोग (DCW) की प्रमुख स्वाति मालीवाल ने ट्वीट करते हुए इस मामले के बारे में लिखा, “दिल्ली में लड़की तो क्या लड़के भी सुरक्षित नहीं हैं. एक 12 साल के लड़के के साथ 4 लोगों ने बुरी तरह से रेप किया और डंडों से पीटकर अधमरी हालत में छोड़कर चले गए. हमारी टीम ने मामले में FIR दर्ज करवाई. 1 आरोपी गिरफ्तार, 3 अब भी फ़रार, दिल्ली पुलिस को नोटिस जारी कर रही हूँ.

दिल्ली में लड़की तो क्या लड़के भी सुरक्षित नहीं हैं। एक 12 साल के लड़के के साथ 4 लोगों ने बुरी तरह से रेप किया और डंडों से पीटकर अधमरी हालत में छोड़कर चले गए। हमारी टीम ने मामले में FIR दर्ज करवाई। 1 आरोपी गिरफ़्तार, 3 अब भी फ़रार, दिल्ली पुलिस को नोटिस जारी कर रही हूँ। 

उन्होंने आगे ट्वीट करते हुए लिखा, “12 साल के लड़के से बलात्कार के मामले में दिल्ली पुलिस को नोटिस जारी किया है. सभी आरोपी जल्द से जल्द गिरफ्तार हो और बच्चे को न्याय मिले.

12 साल के लड़के से बलात्कार के मामले में दिल्ली पुलिस को नोटिस जारी किया है. सभी आरोपी जल्द से जल्द गिरफ्तार हों और बच्चे को न्याय मिले

घटना को “बहुत गंभीर मामला” बताते हुए, स्वाति मालीवाल प्राथमिकी की एक प्रति, आरोपी के बारे में जानकारी और 28 सितंबर तक मामले पर रिपोर्ट का विवरण मांगा.

नोटिस के तुरंत बाद, दिल्ली पुलिस ने एक बयान में कहा कि सीलमपुर पुलिस स्टेशन को एलएनजेपी अस्पताल से गुरुवार को लगभग 10 साल के लड़के के साथ शारीरिक हमले की घटना के बारे में फोन आया. डीसीपी कार्यालय के एक आधिकारिक बयान में बताया की “तुरंत पुलिस टीम अस्पताल पहुंची और बच्चे के माता-पिता से मिली लेकिन उन्होंने बयान देने से इनकार कर दिया. गया है कि बच्चा चिकित्सकीय निगरानी में था.”

पुलिस ने कहा कि नाबालिग के परिवार ने 24 सितंबर तक बयान नहीं दिया, जबकि मामले को सौंपे गए जांच अधिकारी ने उनसे नियमित रूप से संपर्क किया. शनिवार को पुलिस की ओर से सखी संस्था (Sakhi organisation) की ओर से काउंसलर की व्यवस्था की गई और घायल बच्चे की मां की काउंसलिंग की गई. काफी कोउँसेल्लिँग के बाद, माँ ने खुलासा किया कि तीन दिन पहले यानी 18 सितंबर को, उसके बेटे “ए” को उसके तीन दोस्तों द्वारा शारीरिक रूप से प्रताड़ित किया गया था और उसके साथ दुष्कर्म किया गया था.

जांच के दौरान, यह पाया गया कि पीड़ित आरोपी को जानता था, सभी की उम्र 10-12 साल के बीच थी, और उसी समुदाय के उसके दोस्त और पड़ोसी थे. खबरों के अनुसार यह भी कहा जा रहा है कि आरोपियों में से एक नाबालिग का चचेरा भाई भी है. अब तक मामले में पकड़े गए एक नाबालिग को किशोर न्याय बोर्ड (Juvenile Justice Board) के समक्ष पेश किया जा चुका है जबकि दो आरोपी अभी भी फरार हैं.

आईपीसी की धारा 377/34 और पोक्सो एक्ट की धारा 6 के तहत मामला दर्ज कर जांच की जा रही है.

Ad Ad Ad
Ad

Leave a Reply

Your email address will not be published.