कौन हैं BJP प्रवक्ता नूपुर शर्मा और नवीन जिंदल, पैगंबर मोहम्मद पर टिप्पणी के बाद जिन पर हुई कार्रवाई

ख़बर शेयर करें

बीजेपी की प्रवक्ता नूपुर शर्मा और मीडिया प्रभारी नवीन जिंदल पर पार्टी हाईकमान ने कड़ा एक्शन लिया है. पैगंबर मोहम्मद पर विवादित टिप्पणी करने के बाद नूपुर शर्मा को पार्टी की प्राथमिक सदस्यता से निलंबित कर दिया गया है, वहीं नवीन जिंदल को पार्टी से निकाल दिया गया है. पैगंबर मोहम्मद पर दिए गए बयान के बाद शुरू हुए विवाद को देखते हुए बीजेपी ने दोनों नेताओं पर यह कार्रवाई की है. इससे पहले पार्टी ने अपनी तरफ से लेटर जारी कर सफाई भी दी थी. भाजपा महासचिव अरुण सिंह ने लेटर जारी कर कहा है कि बीजेपी सभी धर्मों का सम्मान करती है और किसी भी धर्म में जो पूजनीय हैं, उनका अपमान स्वीकार नहीं करती.

बता दें कि एक टीवी चैनल पर डिबेट के दौरान बीजेपी प्रवक्ता नुपूर शर्मा ने पैगंबर मोहम्मद को लेकर एक विवादित टिप्पणी की थी. इस पर मुस्लिम समुदाय के लोग नाराज हो गए थे. वहीं नवीन कुमार जिंदल के बयान को भी बीजेपी ने सांप्रदायिक सद्भावना भड़काने वाला बयान मानते हुए कार्रवाई की. दिल्ली प्रदेश अध्यक्ष आदेश गुप्ता ने लेटर जारी कर उन्हें पार्टी से निकाले जाने की सूचना दी.

नूपुर शर्मा अबतक बीजेपी की प्रवक्ता थीं, वहीं कांग्रेस से बीजेपी में आए नेता नवीन जिंदल दिल्ली प्रदेश के पार्टी मीडिया प्रमुख थे. आइए जानते हैं दोनों नेताओं के बारे में थोड़ा विस्तार से.

कौन हैं नवीन जिंदल?
नवीन जिंदल दिल्ली बीजेपी के लीडर रहे हैं. पार्टी ने उन्हें दिल्ली प्रदेश बीजेपी में मीडिया प्रमुख की जिम्मेदारी सौंपी थी. दिल्ली बीजेपी के प्रवक्ता रहे नवीन जिंदल को हिंदू राष्ट्रवादी विचारों के लिए भी जाना जाता है. कई मौकों पर वे अपनी पार्टी के विरोधियों के खिलाफ हमलावर दिखे हैं. खासकर दिल्ली के मुख्यमंत्री केजरीवाल के खिलाफ वे काफी मुखर रहे हैं. इसी साल अप्रैल में केजरीवाल का एक ​वीडियो शेयर करने पर विवाद भी हुआ था.

नवीन पिछले साल भी चर्चा में आए थे, जब उन्हें आतंकवादियों की ओर से धमकी दिए जाने की खबर वायरल हुई थी. बीजेपी नेता नवीन जिंदल ने तब ट्वीट कर इस बात की जानकारी दी थी कि आतंकवादी संगठन उन्हें और उनके परिवार को जान से मारने की धमकी दे रहे हैं. उन्होंने दिल्ली पुलिस में इसकी शिकायत भी की थी.

कौन हैं नूपुर शर्मा?
नूपुर शर्मा अबतक बीजेपी की राष्ट्रीय प्रवक्ता थीं. वह बीजेपी दिल्ली की प्रदेश कार्यकारिणी समिति की भी सदस्य थीं. हालांकि अब उनकी प्राथमिक सदस्यता छीन ली गई है. नूपुर शर्मा पहली बार 2015 दिल्ली विधानसभा चुनाव के दौरान चर्चा में आई थीं. तब बीजेपी ने उन्हें आम आदमी पार्टी प्रमुख अरविंद केजरीवाल के खिलाफ मैदान में उतारा था. तब वह केजरीवाल को चुनौती नहीं दे सकीं और बुरी तरह चुनाव हार गई थीं. हालांकि अपने मुखर अंदाज से उन्होंने लोगों को प्रभावित जरूर किया था.

नूपुर शर्मा छात्र जीवन से ही राजनीति में मुखर रही हैं. वह दिल्ली विश्वविद्यालय छात्र संघ की अध्यक्ष भी रह चुकी हैं. 2008 में वह एवीबीपी की ओर से छात्र संघ चुनाव जीतने वाली एकमात्र उम्मीदवार थीं. छात्र राजनीति से 2010 में नुपुर निकलने के बाद वह भाजयुमो यानी भारतीय जनता पार्टी के युवा मोर्चा में सक्रिय हुईं. तब भी उन्हें राष्ट्रीय मीडिया प्रभारी का जिम्मा सौंपा गया था. तब वह केजरीवाल को चुनौती नहीं दे सकीं और बुरी तरह चुनाव हार गई थीं. हालांकि अपने मुखर अंदाज से उन्होंने लोगों को प्रभावित जरूर किया था.

वकील भी हैं नूपुर, लंदन से भी की है पढ़ाई
नूपुर शर्मा बीजेपी की मुखर प्रवक्ता तो रही ही हैं, वह पेशे से वकील भी हैं. उन्होंने लंदन स्कूल ऑफ इकनॉमिक्स से पढ़ाई की है. इसके अलावा बर्लिन से भी उन्होंने पढ़ाई की है. छात्र जीवन से ही वह अपने बोलने के अंदाज के लिए जानी जाती रही हैं. 2015 दिल्ली विधानसभा चुनाव में केजरीवाल से हारने के बावजूद वह राष्ट्रीय स्तर पर लाइमलाइट में आ गई थीं. धीरे-धीरे उनका कद बढ़ता गया और फिर बीजेपी दिल्ली की प्रदेश कार्यकारिणी समिति में उन्होंने जगह बनाई. साथ ही पार्टी प्रवक्ता का तमगा भी मिला.

Ad
Ad
Ad
Ad

Leave a Reply

Your email address will not be published.