तेेेज़ रफ्तार के साथ पन्त की पलटी कार ,हरियाणा रोडवेज के इन दो कर्मियों ने ऐसे बचाई जान, वीडियो वायरल

ख़बर शेयर करें

मशहूर क्रिकेटर ऋषभ पंत की कार शुक्रवार की सुबह हादसे का शिकार हो गई। हादसा तकरीबन सुबह साढ़े पांच बजे हुआ।इस हादसे के वक्त ऋषभ पंत अपनी मर्सिडीज कार को खुद ही ड्राइव कर रहे थे। वो कार में अकेले थे। सीसीटीवी में दिख रहा है कि तकरीबन साढ़े पांच बजे दिल्ली से रुड़की मार्ग पर नारसन बार्डर पर उनकी कार रोड डिवाइडर को तोड़ते हुए रांग साइड में जाकर टकरा जाती है।


इस हादसे के बाद ऋषभ पंत खुद ही कार से निकल कर बाहर आए और डिवाइडर के स्पेस पर लेट गए। बताया जा रहा है कि ऋषभ जिस समय कार की विंड स्क्रीन को तोड़कर बाहर निकले उस समय कार में आग लग गई थी और उनके कपड़ों भी आग की चपेट में आ गए थे।उन्होंने खुद ही अपने कपड़ों को अपने शरीर से हटाया और नंगे बदन ही रोड डिवाइडर पर आकर लेट गए।

मां से नए साल पर मिलना था, इसलिए पंत ने सोचा कि क्यों ना सीधे घर पहुंचकर मां को चौंकाया जाए। लेकिन कौन जानता था कि मां को सरप्राइज देने जा रहे पंत पूरी दुनिया में उनके फैंस को चौंका देंगे। तेज रफ्तार कार अचानक डिवाइडर से टकराती है, हवा में उछती है और सड़क के दूसरी तरफ पलट जाती है। अचानक कार आग के गोले में तब्दील हो जाती है। इसके बाद जो हुआ, वो शर्मनाक भी था और इंसानियत की मिसाल भी…सच बताएं तो कुछ लोगों के बारे में बताते हुए हमें भी शर्म महसूस हो रही है।

ऋषभ की गाड़ी का एक्सीडेंट हुआ, उस वक्त कार में 4 लाख रुपये थे। एक्सीडेंट के बाद सारे रुपये सड़क पर बिखर गए। ऋषभ भी सड़क पर पड़े-पड़े तड़प रहे थे। इस दौरान वहां मौजूद लोग मदद के बजाय रुपये उठाने लगे।कुछ लोग मदद करने के बजाय ऋषभ का वीडियो बनाने लगे।लोगों की भीड़ लग गई, लेकिन इन लोगों ने ऋषभ की मदद करने के बजाय सड़क पर बिखरे नोट अपनी जेबों में भर लिए और वीडियो बनाने लगे

ऋषभ पंत की कार जिस समय दुर्घटना ग्रस्त हुई उस समय उनकी कार से कुछ ही दूरी पर हरियाणा रोडवेज की बस आ रही थी। सबसे पहले इसी बस के लोगों ने हादसा देखा। इसके बाद बस के ड्राइवर और कंडक्टर ने ऋषभ पंत को सहारा दिया और उन्हें ओढ़ने के लिए कंबल दिया। पुलिस के मुताबिक ऋषभ के लिए 112 पर एंबुलेंस की कॉल भी हरियाणा रोडवेज के ड्राइवर ने की। हादसे की सूचना भी इन्ही लोगों ने पुलिस को दी।


बताया जा रहा है कि पहले हरियाणा रोडवेज के बस चालक और परिचालक एकबारगी उन्हें अंधेरे में पहचान नहीं पाए। ऐसे में ऋषभ पंत ने उन्हे खुद ही अपना परिचय दिया।हरियाणा रोडवेज के बस चालक और परिचालक और बस में सवार अन्य लोगों की मदद ऋषभ पंत के लिए काफी मददगार साबित हुई। न सिर्फ ऋषभ को समय पर इलाज मिल गया बल्कि संकट के समय उन्हें मददगार भी मिल गए।


ऋषभ पंत के साथ हुए हादसे का सीसीटीवी फुटेज देख कर साफतौर पर समझा जा सकता है कि ये हादसा कितना भयावह था। ऋषभ पंत की कार इस हादसे बाद पूरी तरह जलकर राख हो गई।

Ad Ad Ad
Ad

Leave a Reply

Your email address will not be published.