हरेला देवभूमि की समृद्धि का परिचायक, बुजुर्ग इस तरह से देते है युवा पीढ़ी को आशीर्वाद

ख़बर शेयर करें

हल्द्वानी इसकेटी डॉट कॉम

हरेला पर्व विशेष उत्तराखंड के लोक पर्व के रूप में मनाया जाता है उत्तराखंड के कुमाऊं क्षेत्र में या त्योहार सुख समृद्धि और पर्यावरण संरक्षण के तौर पर मनाया जाता है. सावन के महीने के पहले गते को होने वाला यह त्यौहार हरियाली का प्रतीक होता है क्योंकि सावन के महीने में बरसात होती है और बरसात से अब तक की सूखी धरती को भरपूर जल मिलता है सावन का महीना शिवजी का महीना माना जाता है. इस महीने में शिवजी की काफी पूजा होती है. शिवजी उत्तराखंड में साक्षात निवास करते हैं जहां केदारनाथ उनका अपना परिणाम है वही जागेश्वर में भी बॉलिंग के रूप में साक्षात विराजमान है.

16 जुलाई 2022 दिन शनिवार को उत्तराखंड का लोक पर्व हरेला मनाया जाएगा।
जैसे कि आप सभी जानते हैं उत्तराखंड एक पवित्र भूमि है लोग उत्तराखंड का नाम लेने से पहले देव भूमि उत्तराखंड लगाते हैं। पहाड़ी संस्कृति और वहां के त्यौहारों की बात ही निराली होती है। उत्तराखंड की एक विशेष बात यह है कि यहां पर सभी त्योहारों को बड़े हर्षोल्लास के साथ मनाया जाता है। इसी तरह सुख समृद्धि, पर्यावरण संरक्षण और प्रेम का प्रतीक हरेला लोक पर्व कुमाऊं क्षेत्र और कुमाऊं से बाहर रहने वाले लोग भी बड़े ही उत्साह से मनाते हैं।

युवाओं एवं बच्चों को इस तरह से चढ़ाया जाता है हरेला उनकी दीर्घायु एवं सुखी तथा सफल जीवन का आशीर्वाद दिया जाता है

श्रावण मास में मनाये जाने वाला हरेला सामाजिक रूप से अपना विशेष महत्व रखता तथा समूचे कुमाऊँ में अति महत्वपूर्ण त्यौहारों में से एक माना जाता है। जिस कारण कुमाऊं अन्चल में यह त्यौहार अधिक धूमधाम के साथ मनाया जाता है। जैसा कि आप सभी जानते है कि श्रावण मास भगवान भोलेशंकर का प्रिय मास है,

इसलिए हरेले के इस पर्व को कई स्थानों में हर-काली के नाम से भी जाना जाता है। यह सर्वविदित ही है देवों की भूमि उत्तराखंड में ईश्वर स्वयं विराजमान है ऐसी हम सभी की अस्था है। यहां पर शिव के अनेक धाम है जैसे कि भोले की नगरी केदारनाथ धाम है, यहां पर जागेश्वर धाम शिव का पवित्र स्थान है जहां पर कहा जाता है कि शिव साक्षात शिवलिंग के रूप में विराजमान है.

इसलिए भी उत्तराखण्ड में श्रावण मास में पड़ने वाले हरेला का अपना विशेष महत्व माना जाता है। हरेला पर्व मनाने के पीछे आत्मिक संतुष्टि भी हम कह सकते हैं क्योंकि माना जाता है कि अगर हरेला जितना बड़ा और घना होगा तो उसे घर में सुख संपदा में वृद्धि होती है और आने वाली फसल बहुत अच्छी होने का अनुमान लगाया जाता है। और इसके अतिरिक्त हरेला पर्व मनाने के पीछे पर्यावरण संरक्षण का शुभ संदेश देना भी होता है उत्तराखंड में परंपरा है हरेला पर्व के दिन अपने घरों में सभी लोग एक वृक्ष अवश्य लगाते हैं।
हरेला पर्व मनाने हेतु लोगों में पहले दिन से ही उत्सुकता होती है। प्रातः काल नित्य कर्म से निवृत्त होकर घर की सफाई इत्यादि के बाद बड़े ही हर्षोल्लास के साथ तरह-तरह के पकवान बनाए जाते हैं।

बने हुए सभी पकवानों को भोग अर्पित कर हरेले की पूजा के उपरांत हरेला काटा जाता है और भगवान के चरणों में अर्पित किया जाता है। और स्थानीय सभी मंदिरों में हरेला बड़ी आस्था के साथ ईश्वर के चरणों में अर्पित किया जाता है। तदुपरांत घर के बड़े बूढ़े इन आशीष वचनों के साथ हरेला सभी सदस्यों के सिर और कान में लगाकर आशीर्वाद प्रदान करते हैं।
जी रया जागि रया, यो दिन बार भेटने रया, आकाश जस उच्च,
धरती जस चाकव है जया, स्यावैक जस बुद्धि,
स्युं (शेर) जस तराण है जौ सिल पिसी भात खाया……..
आप सभी को हरेला पर्व की हार्दिक शुभकामनाएं
जय माता दी

Ad
Ad
Ad

Leave a Reply

Your email address will not be published.