तो क्या सफेदपोशो के दबाव में लोनिवि ने किया टेंडर का खेल

ख़बर शेयर करें

हल्द्वानी एसकेटी डॉट कॉम

प्रदेश हित को दरकिनार कर निजी हितों को साधने के लिए लोक निर्माण विभाग की ओर से कुछ चाहते ठेकेदारों को लाभ पहुंचाने के लिए टेंडर प्रक्रिया की धज्जियां उड़ा कर रख दी. माना यह जा रहा है कि संभवत अपने खास चाहते ठेकेदारों को लाभ पहुंचाने के लिए सफेद पोशो द्वारा विभाग के अधिकारियों पर यह दबाव बनाया गया. सफेद पुरुषों का काम करने का तरीका यह होता है कि अधिकारियों से कहते हैं कि हमारे इस आदमी को काम चाहिए कैसे होगा यह हम नहीं आप जानो.

राज्य के स्थानीय समाचार पत्रों को दरकिनार कर उत्तर प्रदेश के अलग-अलग शहरों से प्रकाशित होने वाले संस्कारों में कार्यों की निविदा प्रकाशित करवा दी ताकि क्षेत्रीय स्तर पर लोगों को इसकी सूचना न मिल सके और इसके लिए आपस में ठेकेदारों में प्रतिस्पर्धा ना हो सके उनके चेलों को ही यह टेंडर सरकारी रेट पर ही मिल जाए इसके लिए यह सारी कवायद की गई.

कालाढूंगी विधानसभा अंतर्गत गांधी आश्रम मोटर मार्ग से भगवान सिंह के घर तक मार्ग सुधारी करण की निविदा प्रकाशित की गई यह राष्ट्रीय अखबार के अलीगढ़ संस्करण में छपवाई गई.

इसी सड़क की निविदा अन्य कामों के साथ आगरा के संस्करण में भी छपवा ही गई इसके अलावा रामपुर रोड के किनारे बने कच्चे मार्गो को मरम्मत करने के लिए टेंडर को अलग-अलग 5 टुकड़ों में कर प्रकाशित कर दिया गया. इस सड़क का का निर्माण ब्रिडकुल को करना है इसी तरह से तल्ली हल्द्वानी के आंतरिक मार्ग को भी 10 जगह छोड़कर टेंडर निकाला गया.

बताया गया कि राज्य के समाचार पत्रों में प्रकाशित करने से स्थानीय ठेकेदारों को इसकी सूचना मिल जाती और अधिक से लोग प्रतिस्पर्धा कर ज्यादा लोग टेंडर डालते जिसे टेंडर का रेट कम होता है और राज्य सरकार को टेंडर रेट कम होने से इसका लाभ मिलता.

लोक निर्माण विभाग के अधिशासी अभियंता अशोक कुमार ने इस बारे में अनभिज्ञता जताते हुए कहा कि अगर ऐसा हुआ है निश्चित रूप से यह गलत है और यह टेंडर निरस्त किए जाएंगे

Ad
Ad
Ad

Leave a Reply

Your email address will not be published.