करोड़ों की छात्रवृत्ति घोटाले मामले में एसआईटी टीम ने सेवानिवृत्त सहायक जिला समाज कल्याण अधिकारी को किया गिरफ्तार

Ad
ख़बर शेयर करें

हरिद्वार।यहां पर छात्रवृत्ति घोटाले मामले में एसआईटी टीम को एक बड़ी कामयाबी मिली है जानकारी के अनुसार बता दे कि छात्रवृत्ति घोटाले की जांच कर रही स्पेशल इंविस्टगेशन टीम (एसआईटी) ने सेवानिवृत्त सहायक जिला समाज कल्याण अधिकारी मुनीष कुमार त्यागी को गिरफ्तार कर लिया है। एसआईटी की जांच में सामने आया कि जिन शिक्षण संस्थानों के खाते में साढ़े तीन करोड़ रुपये की छात्रवृत्ति दी गई, वह फर्जी तरीके से केवल कागजों में ही थी। छात्रवृत्ति घोटाले के जांच अधिकारी योगेश सिंह देव ने बताया कि जिला समाज कल्याण विभाग के दस्तावेजों के अनुसार साढे़ तीन करोड़ रुपये मानव भारती विश्वविद्यालय सोलन हिमाचल प्रदेश के बैंक खातों में दिया जाना दिखाया गया।जबकि विवि की ओर से ऐसी कोई राशि मिलने से इनकार किया गया। बैंक खातों की डिटेल निकाली तो यह धनराशि सुभाष निवासी ग्राम पनियाला रुड़की, किरण देवी निवासी ग्राम पनियाला रुड़की संचालक किरन इंस्टीट्यूट ऑफ मैनेजमेंट एंड टेक्नोलॉजी, राहुल विश्नोई निवासी मनीराम रोड ऋषिकेश संचालक मानव भारती विश्वविद्यालय एन पावर एकेडमी रानीपुर मोड़ हरिद्वार और अश्वनी टंडन निवासी 166 आवास विकास कोतवाली गंगनहर रुड़की के खातों में गई।

उक्त शैक्षणिक संस्थानों की मानव भारती विश्वविद्यालय सोलन हिमाचल प्रदेश से मान्यता/संबद्वता फर्जी पाई गई। तीनों संस्थान वास्तविक रूप से धरातल पर नहीं पाए गए।छात्रों के नाम पर साढे़ तीन करोड़ रुपये की स्कालरशिप घोटाले में तत्कालीन सहायक समाज कल्याण अधिकारी मुनीष कुमार त्यागी निवासी मोहल्ला विनीत नगर गली नंबर 3 निकट महीपाल की कोठी पनियाला रोड रुड़की को गिरफ्तार किया गया है। इस मामले में पूर्व में जिला समाज कल्याण अधिकारी अनुराग शंखधर पहले ही गिरफ्तार हो चुके हैं

Ad
Ad
Ad
Ad
Ad
Ad
Ad
Ad
Ad
Ad
Ad
Ad

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *