दुखद खबर- मणिपुर में शहीद हुए उत्तराखंड के जवान, असम राइफल में इस पद पर थे तैनात

Ad
ख़बर शेयर करें

राज्य में आज अपने जवानों को लेकर दो बड़ी दुखद खबर सामने आ रही है पहली खबर तो हम आपको बता ही चुके हैं जहां पर एक जवान की सड़क हादसे में मृत्यु हो गई वहीं दूसरी खबर राज्य के वीर सपूत जो कि मणिपुर में असम राइफल में तैनात थे उनका क्षत-विक्षत पार्थिव शरीर मिला है बता दे कि शहीद जवान ऊधमसिंह नगर जिले के खटीमा के रहने वाले है।और असम राइफल्स में हवलदार के पद पर तैनात थे। उनकी शहादत की खबर से परिजनों में कोहराम मचा हुआ है।

ताजा खबरों के लिए हमारे व्हाट्सएप ग्रुप से जुड़े

बीते रोज जैसे ही शहीद जवान का पार्थिव शरीर उनके पैतृक गांव पहुंचा तो शोकाकुल परिजनों का दुःख आंसूओं में तब्दील हो गया। गमहीन माहौल में रोते-बिलखते परिजनों का हृदयविदारक दृश्य देखकर वहां मौजूद हर शख्स की आंखें नम हो गई। परिजनों के अंतिम दर्शनों के बाद शहीद जवान का अंतिम संस्कार पूरे सैन्य सम्मान के साथ बनबसा स्थित शारदा घाट पर किया गया। जानकारी अनुसार पिथौरागढ़ जिले की डीडीहाट तहसील के ग्राम जमतड़ निवासी हयात सिंह महर पुत्र स्व. त्रिलोक सिंह का परिवार वर्तमान में ऊधमसिंह नगर जिले की खटीमा तहसील के झनकट की डिफेंस कॉलोनी में रहता है। बता दें कि हयात भारतीय सेना की 31 असम राइफल्स में हवलदार के पद पर कार्यरत थे। वर्तमान में उनकी पोस्टिंग मणिपुर में थी, जहां बीते 12 जुलाई को उल्फा उग्रवादियों ने उनका अपहरण कर लिया था‌। काफी खोजबीन के बाद सेना के जवानों को 16 जुलाई को उनका पार्थिव शरीर बरामद हुआ था। जिसकी सूचना सेना के अधिकारियों द्वारा उनके परिजनों को दी गई। शहीद हवलदार अपने पीछे पत्नी चंद्रा महर, पुत्री रेखा व पुत्र अमित सिंह महर सहित समूचे परिवार को रोते-बिलखते छोड़ गए हैं।

Ad
Ad
Ad
Ad
Ad
Ad
Ad
Ad
Ad
Ad
Ad
Ad

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *