पुलिस कांस्टेबल की पत्नी ममता बिष्ट की मौत का हल्द्वानी पुलिस ने किया खुलासा, पढे खबर

ख़बर शेयर करें

हल्द्वानी में विगत 3 नवंबर को बाजपुर कोतवाली में तैनात पुलिसकर्मी की पत्नी की हत्या का मामला काफी सुर्खियों में रहा जिसके बाद पुलिस के द्वारा इस मामले में आरोपी को गिरफ्तार करने के लिए पूरी तत्परता के साथ कार्य किया गया बता दें कि महिला के हत्या की सूचना 3 नवंबर को बालक कपिल बिष्ट उम्र 17 साल के द्वारा दी गई उसने मुखानी थाना में आकर सूचना दिए कि उसके घर का नौकर टूटा हुआ है और उसकी मां भी दिखाई नहीं दे रही है जिसकी सूचना के आधार पर थाना अध्यक्ष मुखानी के द्वारा तत्काल थाने से महिला उपनिरीक्षक बबीता मेहरा को पुलिस बल के साथ सूचना देने वाले बालक के साथ उसके घर के लिए रवाना कर दिया जिसके थोड़ी देर बाद ही बालक की मां की हत्या होने की सूचना मिलने पर थाना अध्यक्ष रमेश सिंह बोरा क्षेत्राधिकारी भूपेंद्र सिंह धोनी एसपी सिटी हल्द्वानी हरबंस सिंह एसपी सिटी क्राइम जगदीश चंद्र डॉग स्क्वाड एवं फॉरेंसिक टीम घटनास्थल पर पहुंची जिसके बाद एसएसपी के द्वारा घटनास्थल का अवलोकन कर थानाध्यक्ष मुखानी एवं अपने अधीनस्थ अधिकारियों को घटना का

तत्काल अनावरण एवं आरोपी को गिरफ्तार करने के कड़े निर्देश दिए गए जिसके बाद पुलिस के द्वारा मुखानी थाने में शंकर सिंह बिष्ट पुत्र स्वर्गीय मोहन सिंह बिष्ट के द्वारा मुखानी थाने में तहरीर दी गई जिसके आधार पर बनाम अज्ञात आरोपी के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर लिया गया और आरोपी के खिलाफ धारा 302/ 394 मुकदमा पंजीकृत किया गया जिसके बाद आरोपी की धरपकड़ के लिए पुलिस के द्वारा पुलिस टीम गठित की गई एसएसपी के द्वारा हत्या का खुलासा करने के लिए एसपी क्राइम एवं एसपी सिटी के पर्यवेक्षण में सीओ हल्द्वानी co-operation नैनीताल के नेतृत्व में आरोपी की तलाश शुरू कर दी है जिसमें हजार से ज्यादा सीसीटीवी कैमरा को खंगाला गया सीसीटीवी लगाने के बाद पुलिस ने आरोपी मोहम्मद अशरफ उर्फ भूरा पुत्र अब्दुल नवी निवासी 88 सुनेरी वार्ड नंबर 15 किच्छा उधम सिंह नगर का निवासी नई बस्ती किच्छा उधम सिंह नगर उम्र 39 वर्ष को संदिग्धों से पूछताछ और सीसीटीवी कैमरा के खजाने के बाद साक्ष्य क्या आधार पर पुलिस टीम के द्वारा वार्ड नंबर 11 नई बस्ती नूरी मस्जिद के पास किच्छा उधम सिंह नगर से गिरफ्तार कर लिया गया गिरफ्तारी

के बाद पुलिस के द्वारा आरोपी से पूछताछ करने पर पता चला है कि लगभग 2 साल पहले वह कॉन्स्टेबल शंकर सिंह बिष्ट के घर पर ग्रिल का काम किया था उसे मालूम था कि उसकी पत्नी भी अकेले ही घर पर रहती है और उसे यह भी पता था कि उसे देखकर कॉन्स्टेबल की पत्नी उसे अपने घर में आने देगी वह कर्ज में डूबने के कारण पैसे जुटाने के लिए पुलिसकर्मी के घर में लूट की योजना बनाकर उसके घर में गया और कई बार उसने अपनी मोटरसाइकिल को मॉडिफाई भी किया

साथ ही वह अपने साथ हथोड़ा भी लेकर गया था लोड करने के लिए उसने पुलिस कर्मी की पत्नी से अन्य जगह ग्रिल लगाने के लिए गिल की फोटो खींचने और पानी पीने का बहाना बनाया इसके बाद महिला आरोपी के लिए पानी लेने के लिए गई तभी आरोपी के द्वारा जेब में रखे हथोड़े से महिला के सिर के पीछे लगातार वार करने से महिला की मौत हो गई और आरोपी के द्वारा महिला को मौत के घाट उतार दिया गया जिसके बाद आरोपी ने घर में रखे सभी जेवरात और नकदी को लूट कर फरार हो गया

और कई बार इसके द्वारा जगह जगह पर गाड़ी को मॉडिफाई भी किया गया और नंबर प्लेट छुपाई गई आरोपी के पास से पुलिस को हत्या में इस्तेमाल किया गया हथोड़ा जिसमें खून के धब्बे थे जींस तमीज और जूते जिसमें खून लगा हुआ था घटना में इस्तेमाल की गई मोटरसाइकिल हीरो स्प्लेंडर प्लस रजिस्ट्रेशन नंबर uk06 c8462 और हेलमेट और लूट के माल में एक जोड़ी कान के झुमके लोकेट एक सोने का गलो बंद एक सोने का मंगलसूत्र को ₹3000 नकदी बरामद किए। बता दें कि इसमें पुलिस के द्वारा तीन पुलिस टीम बनाई गई इन पुलिस टीमों को डीजीपी अशोक कुमार के द्वारा ₹100000, नीलेश आनंद भरणे डीआईजी कुमाऊं के द्वारा ₹50000, नैनीताल एसएसपी पंकज भट्ट के द्वारा ₹25000 ,कालाढूंगी विधायक विधानसभा बंशीधर भगत के द्वारा ₹21000 हल्द्वानी मेंयर जोगिंद्र रौतेला के द्वारा ₹11000 पुरस्कार देने की घोषणा की गई

Report by_-Ankur saxena

Ad
Ad
Ad
Ad
Ad
Ad
Ad Ad

Leave a Reply

Your email address will not be published.