दरकते जोशीमठ को बचाएं कैसे, आज सीएम धामी करेंगे हाईलेवल बैठक

ख़बर शेयर करें



फटती जमीन और दरकते पहाड़, जोशीमठ की फिलहाल यही कहानी है। खतरनाक स्तर तक पहुंच चुके भूधंसाव के चलते जोशीमठ का एक बड़ा हिस्सा एक बड़ी आपदा के मुहाने पर आ खड़ा हुआ है।


हालात ये हैं कि जोशीमठ के 550 से अधिक मकानों में दरारें आ चुकी हैं। जमीन से पानी निकल रहा है और पहाड़ों के हिस्से अपने आप दरकने लग रहें हैं।


वहीं इस भूधंसाव के चलते पैदा हुआ आपदा जैसे हालात की समीक्षा के लिए सीएम धामी ने आज शाम छह बजे एक हाईलेवल मीटिंग बुलाई है। इस मीटिंग में जोशीमठ में हो रहे भूधंसाव को लेकर सरकार की क्या रणनीति हो इसपर चर्चा करेंगे।

इस बैठक में मुख्य सचिव, सचिव आपदा प्रबंधन, सचिव सिंचाई, पुलिस महानिदेशक, आयुक्त गढवाल मण्डल, पुलिस महानिरीक्षक एसडीआरएफ, जिलाधिकारी चमोली सहित अन्य अधिकारी उपस्थित रहेंगे। इसके साथ ही कई अधिकारी वीडियो कॉन्फ्रेंस के जरिए भी जुड़ेंगे।


इसके पहले सीएम धामी के निर्देश पर गढवाल कमिश्नर सुशील कुमार, आपदा प्रबंधन सचिव रन्जीत कुमार सिन्हा, आपदा प्रबंधन के अधिशासी अधिकारी पीयूष रौतेला, एनडीआरएफ के डिप्टी कमांडेंट रोहितास मिश्रा, भूस्खलन न्यूनीकरण केन्द्र के वैज्ञानिक सांतुन सरकार, आईआईटी रूडकी के प्रोफेसर डा.बीके माहेश्वरी सहित तकनीकी विशेषज्ञों की पूरी टीम जोशीमठ पहुंच गई है।


गढवाल कमिश्नर एवं आपदा प्रबंधन सचिव ने तहसील जोशीमठ में अधिकारियों की बैठक लेते हुए स्थिति की समीक्षा की गई। विशेषज्ञों की टीम द्वारा प्रभावित क्षेत्रों का विस्तृत सर्वेक्षण किया जा रहा है।


जोशीमठ में भू-धंसाव की समस्या के दृष्टिगत जिला प्रशासन ने बीआरओ के अन्तर्गत निर्मित हेलंग वाई पास निर्माण कार्य, एनटीपीसी तपोवन विष्णुगाड जल विद्युत परियोजना के अन्तर्गत निर्माण कार्य एवं नगरपालिका क्षेत्रान्तर्गत निर्माण कार्यो पर अग्रिम आदेशों तक तत्काल प्रभाव से रोक लगा दी है। साथ जोशीमठ-औली रोपवे का संचालन भी अग्रिम आदेशों तक रोक दिया गया है।


प्रभावित परिवारों को शिफ्ट करने हेतु जिला प्रशासन ने एनटीपीसी व एचसीसी कंपनियों को एहतियातन अग्रिम रुप से 2-2 हजार प्री-फेब्रिकेटेड भवन तैयार कराने के भी आदेश जारी किए है।


जोशीमठ में भू-धंसाव की समस्या को लेकर प्रशासन प्रभावित परिवारों को हर संभव मदद पहुंचाने में जुटा है। प्रभावित परिवारों को नगरपालिका, ब्लाक, बीकेटीसी गेस्ट हाउस, जीआईसी, गुरुद्वारा, इंटर कालेज, आईटीआई तपोवन सहित अन्य सुरक्षित स्थानों पर रहने की व्यवस्था की गई है। जोशीमठ नगर क्षेत्र से 43 परिवारों को सुरक्षित स्थानों पर अस्थायी रूप से शिफ्ट कर लिया गया है। जिसमें से 38 परिवार को प्रशासन ने जबकि पांच परिवार स्वयं सुरक्षित स्थानों पर शिफ्ट हो गए है।

Ad Ad Ad
Ad

Leave a Reply

Your email address will not be published.