@ हल्द्वानी वीआईपी कॉलोनी का कड़वा सच – पानी को तरसते, अधूरे मिनी ट्यूबवेल की ओर टकटकी लगाए लोग क्या कह रहे हैं ( देखें वीडियो)

ख़बर शेयर करें

हलद्वानी एसकेटी डॉट कॉम

पूरे प्रदेश में जहां पेयजल की दिक्कत बनी हुई है प्रशासन यथासंभव प्रयास कर रहा है, लेकिन इसके बावजूद कालाढूंगी विधानसभा क्षेत्र अंतर्गत हल्द्वानी ग्रामीण क्षेत्र कालाढुंगी रोड़ की वीआईपी कॉलोनी में शुमार हिल्स व्यू कॉलोनी के लोग पेयजल के लिए निर्माणाधीन आधे अधूरे ट्यूबल की ओर टकटकी लगाए देख रहे हैं कि कब यह ट्यूबवेल में पेयजल उपलब्ध कराएगा।

इसके अलावा वहां के लोग सड़कों की बदतर हालत से परेशान है कई बार बच्चे सड़कों से रपट कर चोटिल हो जाते हैं। बहुत बड़े धनाढ्य एवं साधन संपन्न लोगों की कालोनी के रूप में विकसित हिल्स व्यू कॉलोनी को 22 साल बने हुए हो चुके हैं लेकिन यहां के लोगों को अभी तक यहां की सरकार की ओर से किसी भी चीज में कोई मदद नहीं मिल पाई है ।जबकि यह सभी लोग बहुत बड़ी रकम टैक्स के रूप में अदा करते हैं।

लोगों ने पेयजल की समस्या को लेकर इस तरह से अपने विचार व्यक्त किए

यहां के लोगों का कहना है कि हफ्ते में 3 दिन उन्हें पेयजल प्राप्त होता है वह भी बमुश्किल 15 -20 मिनट के लिए पानी मिल पाता है। यहां की सड़कों को यहां के लोग अपने मित्रों के माध्यम से रिपेयर करवा रहे हैं तब कहीं वह जाने योग्य बन रही है । लोगों का कहना है कि माननीय क्षेत्रीय विधायक के प्रयासों से यह टेबल स्वीकृत हुआ है लेकिन 3 माह बीत जाने के बाद भी यह भी विभाग के नकारपन से जयौ का त्यों पड़ा है।

यहां के लोगों का आरोप है कि जल संस्थान के अधिशासी अभियंता इस पर अपनी दिलचस्पी नहीं दिखा रहे हैं जिसकी वजह से यह पेयजल की समस्या बनी हुई है । फरवरी की 5 तारीख को बोरिंग पूरी हुई थी मुझसे बावजूद इस पर काम नहीं बढ़ाया गया जिसकी वजह से कॉलोनी वासी पेयजल को तरस रहे हैं। लोगों को अपने घरों में निजी टैंकरों के माध्यम से पेयजल की व्यवस्था करनी पड़ रही है।

इसके अलावा कॉलोनी में सड़क भी काफी टूटी फूटी है लोगों ने अपने स्वयं के खर्चे से अपने घरों के आसपास सड़कों की रिपेयर की है जबकि विभाग और शासन की ओर से सड़क पर कोई धनराशि अभी तक खर्च नहीं की गई है। यहां की निवासी निवासी अर्चना केसरवानी का कहना है कि घर के पास बोरिंग पर जाली रखी है लेकिन इसके बावजूद बच्चों के गिरने की संभावना बनी रहती है लोगों को यहां पर कई महीनों से मंदिर में आने जाने में दिक्कत हो रही है।

गौरतलब है इस कॉलोनी में डॉक्टर, स्कूल संचालक ,बड़े अधिकारी के अलावा पूर्व मुख्य सचिव आईडी पांडे के परिजन भी रहते हैं इसके अलावा शहर के नामी-गिरामी व्यवसाई इस कॉलोनी में रहते हैं इसके बावजूद नक्कारा अधिकारियों की अकर्मण्यता के चलते यहां के लोगों को पेयजल उपलब्ध नहीं हो पा रहा है।

यहां तक बताया गया कि जल संस्थान के अधिशासी अभियंता ने बोरिंग के डिस्चार्ज का प्रमाण पत्र भी संबंधित कार्यदाई संस्था से नहीं लिया है इसके अलावा अन्य और औपचारिकताएं उनके द्वारा संपादित नहीं की जा रही है। लोगों ने कहा कि विधायक बंशीधर भगत के प्रयासों से यह ट्यूबवेल स्वीकृत हुआ लेकिन 3 माह बीत जाने के बाद भी उन्हें अभी तक पानी की एक एक बूंद के लिए तरसना पड़ रहा है।

Ad
Ad
Ad
Ad

Leave a Reply

Your email address will not be published.