हल्द्वानी-यहां मेडिकल काॅलेज में टीवी के बचाव एवं एवम उपचार पर हुआ मंथन गोष्ठी का हुआ आयोजन

ख़बर शेयर करें

विश्व टीबी दिवस पर आज गुरूवार को राजकीय मेडिकल काॅलेज हल्द्वानी के टी0बी0 एवं श्वास रोग विभाग द्वारा मेडिकल काॅलेज परिसर के लेक्चर थियेटर में गोष्ठी का आयोजन किया गया, जिसका विषय एक्स्ट्रापल्मोनरी टीबीः डायग्नोसिस, ट्रीटमेंट और माॅनिटरिंग था। गोष्ठी का शुभारंभ डाॅ0 अरूण जोशी, प्राचार्य राजकीय मेडिकल काॅलेज द्वारा किया गया। गोष्ठी में मुख्य वक्ता डाॅ0 राजीव टण्डन, (प्रोफेसर, रेस्पीरेट्री मेडिसिन विभाग), राम मूर्ति स्मारक इन्स्टीट्यूट आॅफ मेडिकल साइंसेज बरेली, द्वारा फेफड़ों की टी0बी0 के अलावा अन्य अंगो से सम्बन्धित टी0बी0 (एक्सट्रापल्मोनरी टी0बी0) की जाॅच एवं उपचार विषय पर विस्तृत जानकारी प्रदान की गयी।
गोष्ठी में डाॅ0 राजीव टण्डन ने एक्स्ट्रापल्मोनरी टी0बी0 के बारे में जानकारी देते हुए बताया कि लगभग 20 प्रतिशत मरीजों में टी0बी0 का संक्रमण फेफड़ों के बजाय अन्य अंगों में पाया जाता है। च्समनतं (फेफड़े की झिल्ली), स्लउची दवकम (लसिका ग्रन्थि), दिमाग, रीड की हड्डी, आंते इनमें प्रमुख हैं।
डा0 टण्डन ने कहा जहाॅ फेफड़ो की टी0बी0 की जाॅच बलगम से आसानी से की जा सकती है, जो निःशुल्क व हर जगह उपलब्ध होती है, वहीं एक्स्ट्रापल्मोनरी टी0बी0 की जाॅच महंगी एवं हर जगह आसानी से उपलब्ध नहीं होती है, इसके लिए अधिकतर मरीजों को मेडिकल काॅलेज की सेवाओं पर ही निर्भर रहना पड़ता है।
एक्स्ट्रापल्मोनरी टी0बी0 की जाॅच के लिए स्मियर स्मियर माइक्रोस्कोपी, कल्चर, जीन एक्सपर्ट, साइटोलाॅजी, एडीए लीवल हैं। इसके अतिरिक्त एक्स-रे, सीटी स्कैन, अल्ट्ररासाउंड, एम0आर0आई0, विभिन्न अंगों की इन्डोस्कोपी की भी मदद ली जाती है। एक्स्ट्रापल्मोनरी टी0बी0 मरीजों के इलाज में अधिकांशतः एक से अधिक विशेषज्ञों की सेवाओं की आवश्यकता होती है, वही कुछ रोगियों में लम्बे इलाज की आवश्यकता पड़ती है। गोष्ठी में मानव शरीर के विभिन्न अंगों में होने वाली टी0बी0 के बारे में विस्तार से बताया गया। गोष्ठी में डाॅ0 अरूण जोशी, प्राचार्य राजकीय मेडिकल काॅलेज, डाॅ0 राम गोपाल नौटियाल, विभागाध्यक्ष टी0बी0 एवं श्वास रोग विभाग, डा0 जी0एस0 तित्याल, डा0 उमेश, डाॅ0 उर्मिला पलड़िया, डा0 विनीता रावत, डा0 साधना अवस्थी, डा0 सौरभ अग्रवाल, डा0 परमजीत सिंह, डा0 रीना भारद्वाज, डाॅ0 हरि शंकर पाण्डेय, डा0 प्रभात पंत, डाॅ0 अंशुल केड़िया, नागेन्द्र प्रसाद जोशी, अमित जोशी समेत रेजीडेण्ट चिकित्सक व एम0बी0बी0एस0 के छात्र-छात्रायें उपस्थित थे।

Ad
Ad
Ad
Ad

Leave a Reply

Your email address will not be published.