ब्रेकिंग -यहाँ भूमाफिया द्वारा दलित परिवार के साथ मारपीट,घर में तोड़फोड़ एवं जमीन कब्ज़ाने की साजिश पर पड़े भारी स्थानीय (देखें वीडियो )

ख़बर शेयर करें

लमगड़ा एसकेटी डॉट कॉम

लमगड़ा के ग्राम अबुली के तोक कहालेख में दबंगों द्वारा दलित परिवार के साथ मारपीट तथा दुर्व्यवहार करने के साथ ही उनकी जमीन को कब्जा करने का मामला सामने आया है.

दलित परिवार की ओर से थाना लमगड़ा में इसकी सूचना देने के बाद कहां पहुंची पुलिस ने मामले की गंभीरता को देखते हुए वहां पर पहुंचे लोगों से पूछताछ करने के साथ ही तलाशी भी ली.

स्थानीय ग्रामीणों द्वारा बाहर से आए लोगों का विरोध करने से भू माफिया के साथ हल्द्वानी से पहुंचे लोग अपने मकसद में कामयाब तो नहीं हो पाए लेकिन उन्होंने दलित परिवार के साथ जिस तरह से दुर्व्यवहार किया. उससे निश्चित रूप से क्षेत्र में माहौल खराब होने का अंदेशा फैल गया है.

पीड़ित दिनेश राम ने कहा कि गांव के लोगों ने उनका साथ दिया तो इसकी वजह से भू-माफिया उनकी भूमि पर कब्जा नहीं कर पाए उन्होंने उनकी पत्नी और बेटी के साथ भी दुर्व्यवहार किया तथा उन्हें और उनके भाई को हाथापाई कर नुकसान पहुंचाने का भरसक प्रयास किया.

पुलिस को दी गई अपनी तहरीर में दिनेश राम पुत्र उमेद राम ने कहा है कि गांव के हरीश सिंह फर्त्याल, दिनेश चंद्र, नंदन सिंह मुकेश सिंह फर्त्याल जब उनका बीच-बचाव करने के लिए आए तो इन लोगों ने उनके साथ भी मारपीट कर दी.

उन्होंने नामजद तहरीर देते हुए कहा कि अंशुल जोशी पुत्र गणेश जोशी अपने साथ हल्द्वानी से कुछ दबंग किस्म के लोगों को लेकर आया है तथा अपने साथ वह महिलाएं भी ताकि वह महिलाओं को आगे कर हमारे महिलाओं के साथ मारपीट कर सके और हमारे खिलाफ महिला एक्ट में कारवाही करा सकें. यह लोग पहले ही अपराधिक घटनाओं को अंजाम देते आए हैं.

प्रार्थना पत्र में उन्होंनेअनुरोध किया है कि वह इन लोगों के खिलाफ सख्त कार्यवाही करें इन लोगों से उन्हें अपनी जान माल का भी खतरा बना हुआ है . फिलहाल पुलिस ने शांति भंग की आशंका के चलते लोगों को वहां से दूर कर दिया है.. वहीं स्थानीय लोगों का कहना है कि हल्द्वानी से आए यह लोग खतरनाक किस्म के हैं उन पर कई तरह के मुकदमे भी दर्ज हैं तथा कभी भी नुकसान पहुंचा सकते हैं आज तो गांव के कुछ लोग इकट्ठे हो गए अगर पुलिस ने कोई कार्यवाही नहीं की तो उन्हें आंदोलन छोड़ना पड़ेगा

Ad Ad
Ad

Leave a Reply

Your email address will not be published.