अंकिता मामले में वीआईपी नाम का खुलासा नहीं होने पर कांग्रेस का जोरदार प्रदर्शन पुलिस ने किया गिरफ्तार#ankita

ख़बर शेयर करें

देहरादून एसकेटी डॉटकॉम

अंकिता हत्याकांड मामले में वीआईपी के नाम का खुलासा करने और सीबीआई जांच की मांग को लेकर लोगों का आक्रोश दिखा। 51 दिन से ऋषिकेश में चल रहे आमरण अनशन के बाद आज प्रदर्शनकारी राजभवन पहुंचे।

युवा न्याय संघर्ष समिति ऋषिकेश के बैनर तले देहरादून पहुंचे आंदोलनकारियों की पुलिस से झड़प हो गई। राजभवन के बाहर पुलिस ने प्रदर्शनकारियों को रोक दिया।  

अनशन कर रहे कांग्रेस नेता जयेन्द्र रमोला को पुलिस ने गिरफ्तार किया। कांग्रेस नेता जयेन्द्र रमोला राज भवन के बाहर अनशन कर रहे थे। अंकिता भंडारी हत्याकांड के छुपे हुए वीआईपी के नाम का खुलासा करने, अंकिता भंडारी हत्याकांड की जांच CBI से कराने और विधानसभा बैकडोर भर्ती घोटाले में दोषियों पर कार्रवाई की मांग को लेकर विगत 51 दिनों से ऋषिकेश में धरना जारी है। आक्रोशित प्रदर्शनकारियों ने कहा कि उत्तराखंड सरकार  गूंगी और बहरी हो चुकी है। इसलिए मजबूरन जब सरकार 51 दिनों के बाद भी प्रदर्शनकारियों तक नहीं पहुंची तो अब उन्हें ही यह राह चुननी पड़ी। परवादून कांग्रेस देहरादून के पूर्व अध्यक्ष जयेन्द्र रमोला युवा न्याय संघर्ष समिति ऋषिकेश के आंदोलनरत साथियों के साथ राजभवन देहरादून के बाहर आमरण अनशन पर बैठे।
अंकिता भंडारी हत्याकांड और महिलाओं पर बढ़ रहे अत्याचार की घटनाओं के विरोध में कांग्रेस भी प्रदेशव्यापी प्रदर्शन कर रही है। प्रदेश कांग्रेस कमेटी ने सरकार की ओर से इस मामले में विधानसभा सत्र के दौरान सदन को गुमराह करने का आरोप लगाया है। कांग्रेस ने कथित वीवीआईपी के नाम का खुलासा करने की मांग दोहराई है।  जिला, महानगर मुख्यालयों में प्रदर्शन के साथ सरकार का पुतला दहन किया गया। कांग्रेस ने कहा कि जल्द ही मांग पूरी नहीं हुई तो कांग्रेस प्रदेशभर में आंदोलन करेगी। पार्टी ने कहा कि  उत्तराखंड को सुशासन देने का वादा करने वाली भाजपा सरकार आज कटघरे में है और कानून व्यवस्था पूरी तरह से ध्वस्त हो चुकी है। कहा कि बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ का नारा देने वाली भाजपा सरकार में महिलाओं पर लगातार अत्याचार की घटनाएं बढ़ती जा रही है। सरकार रसूखदारों को बचाने की कोशिश कर रही हैं। लेकिन, कांग्रेस महिलाओं के हक के लिए सड़क से सदन तक संघर्ष करेगी

Ad
Ad

Leave a Reply

Your email address will not be published.