एक पूर्व सीएम एवं कई नौकरशाहो का चहेता था हाकम, कई पर लटक सकती है गिरफ्तारी की तलवार

ख़बर शेयर करें

नकल कराकर परीक्षा दिलाने वाले जिला पंचायत सदस्य हाकम सिंह का करेक्शन कई बड़े राजनेताओं और नौकरशाहों के साथ रहा है उसके होटलों में यह नौकरशाह और सफेदपोश नेता सुख सुविधाओं का लाभ लेते रहे हैं

वर्ष 2016-17 में उन्होंने रुपए लेकर ए ई और जेई की भर्ती करवाई थी. इनमें लाखों रुपए का लेनदेन हुआ था उसके द्वारा इस मामले में पकड़े जाने के बाद पिछले मामलों के पुख्ता होने की संभावना बलवती हो गई है.

उसने एक भ्रष्ट इंजीनियर के साथ मिलकर उसके रिश्तेदार को भी ए ई के पद पर भर्ती करवाया था जिसके एवज में उसने 25 लाख रुपए वसूले थे.

उसके हिसाब किताब रखने वाले टीचर तरुण शर्मा तनु को भी एसटीएफ ने गिरफ्त में ले लिया है तनु उसके पास एक मुनीम की तरह ही उसके हिसाब किताब की जानकारी रखता था.

उ अब तक के अपडेट मे उत्तराखंड अधीनस्थ सेवा चयन आयोग (यूकेएसएसएससी) की भर्ती परीक्षाओं में पेपर लीक और नकल करवाने के सरगना भाजपा नेता और उत्तरकाशी जखोल के जिला पंचायत सदस्य हाकम सिंह रावत को एसटीएफ ने गिरफ्तार कर लिया है।

देहरादून स्थित एसटीएफ के मुख्य कार्यालय में उससे पूछताछ की गई है। एसटीएफ के एसएसपी अजय सिंह ने बताया कि इस मामले में कुछ और बड़े नेताओं की भी गिरफ्तारी हो सकती है।

उन्होंने बताया कि चार और पांच दिसंबर 2021 को हुए स्नातक स्तर के पेपर से पहले हाकम सिंह रावत के परिचित व लेनदेन का हिसाब किताब रखने वाले शिक्षक तनु शर्मा ने 20 से 22 छात्रों को रायपुर स्थित अपने कमरे में पेपर देकर पेपर हल करवाया था। वहीं 25 से 30 छात्रों को वह धामपुर ले गया था,

जहां उसने परीक्षा की तैयारी करवाई थी। इसके बाद सभी छात्रों को उनके परीक्षा सेंटर पर छोड़ा था। आरोपियों ने प्रति अभ्यर्थी के साथ 12 से 15 लाख रुपए का सौदा किया था। इसमें कुछ एडवांस के तौर पर तो कुछ परीक्षा में पास होने के बाद देने का वादा किया गया था।

उन्होंने बताया कि इससे पूर्व हुई भर्ती में भी हाकम सिंह रावत का नाम सामने आ रहा है। ऐसे में रिमांड पर लेकर उससे पूछताछ की जाएगी। गिरोह में उत्तर प्रदेश से भी कुछ लोगों के जुड़ने के संकेत मिले हैं।

बताया जा रहा है कि हाकम सिंह रावत ने अपने करीबियों को भी नहीं छोड़ा। उसने अपनी एक करीबी परिचित महिला से भी चार लाख रुपये लिए और स्नातक स्तर की परीक्षा में नकल करवाई, जिसमें महिला अच्छी रैंक से पास हुई। अब एसटीएफ की रडार पर यह महिला भी आ गई है।

बताते चलें कि पेपर लीक प्रकरण सामने आने के बाद हाकम सिंह रावत कुछ दिनों तक बैंकाक की सैर पर निकल गया। वह वहां से नौ अगस्त को भारत लौटा था। एसटीएफ ने शनिवार को हिमाचल प्रदेश के बार्डर आराकोट से हाकम सिंह को हिरासत में लिया। सूत्रों के अनुसार एसटीएफ ने पिछले दो दिनों से मोरी क्षेत्र में डेरा डाला हुआ था।

बताया जा रहा है कि हाकम सिंह रावत की भाजपा के एक पूर्व मुख्यमंत्री समेत कई दिग्गज नेताओं और नौकरशाहों से निकटता बताई जा रही है।

Ad
Ad
Ad

Leave a Reply

Your email address will not be published.